July 12, 2024

तीन दिन के विदेश दौरे के दौरान ऑस्ट्रिया जाएंगे पीएम मोदी, 40 से अधिक वर्षों में किसी भारतीय प्रधानमंत्री का पहला ऑस्ट्रिया दौरा

image 31

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज से तीन दिवसीय विदेश यात्रा के लिए रवाना हो गए। 8 और 9 जुलाई को पीएम मोदी रूस दौरे पर रहेंगे और वहां से ऑस्ट्रिया के लिए रवाना हो जाएंगे। ऑस्ट्रिया यात्रा पर पीएम मोदी ने कहा कि भारत और ऑस्ट्रिया के राजनीतिक संबंधों के 75 वर्ष होने के मौके पर इस मध्य यूरोपीय देश की यात्रा बड़े सम्मान की बात है। दोनों देश सहयोग के नए रास्ते तलाशने पर चर्चा करेंगे।

ऑस्ट्रिया चांसलर नेहमर ने अपनी पोस्ट में लिखा कि “वह दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत के प्रधानमंत्री का वियना में स्वागत करने के लिए बहुत उत्सुक हैं।”उन्होंने लिखा, “यह यात्रा विशेष सम्मान है क्योंकि 40 से अधिक वर्षों में किसी प्रधानमंत्री की मेरे देश की यह पहली यात्रा है। यह यात्रा इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि हमें भारत के साथ राजनीतिक संबंधों को और प्रगाढ़ करने और भू- राजनीतिक चुनौतियां पर बेहतरीन सहयोग के बारे में बात करने का अवसर मिलेगा।”

पीएम मोदी तीन दिवसीय विदेश यात्रा पर मॉस्को रवाना, पीएम के रूस दौरे के क्या है मायने? :PM Modi Russia Visit 

नेहमर की इस टिप्पणी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आभार जताते हुए कहा कि” इस यात्रा में दोनों देशों के बीच संबंध प्रगाढ़ होंगे।” पीएम मोदी ने अपनी पोस्ट में लिखा “मैं दोनों देश के बीच संबंध को मजबूत करने और सहयोग के नए रास्ते तलाशने पर चर्चा की उम्मीद करता हूं।” उन्होंने कहा कि “लोकतंत्र, स्वतंत्रता और कानून के शासन के साझा मूल्य वह आधार है जिस पर दोनों देश साथ मिलकर एक निरंतर घनिष्ठ साझेदारी का निर्माण करेंगे।”

40 वर्षों में किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली ऑस्ट्रिया यात्रा

8 और 9 जुलाई की रूस यात्रा पर पीएम मोदी रहेंगे और वहीं से ऑस्ट्रिया के लिए रवाना होंगे। 40 वर्षों में किसी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली ऑस्ट्रिया यात्रा होगी। ऑस्ट्रिया में पीएम मोदी ऑस्ट्रिया गणराज्य के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर वान डेर बेलन और चांसलर से मिलेंगे। भारत- ऑस्ट्रिया के शीर्ष उद्यमियों की बैठक को पीएम मोदी और और चांसलर नेहमर संबोधित करेंगे। इसके बाद मोदी वियना में भारतीय समुदाय के लोगों से भी सीधी मुलाकात करेंगे।

ऐसा माना जा रहा है कि मास्को और बीजिंग के बीच बढ़ती नजदीकियों को देखते हुए भारत- रूस के रिश्तों की अहमियत को दिखाना और पश्चिमी देश के साथ संबंधों को संतुलित करना इस दौरे का मुख्य उद्देश्य है।