National Tourism Day 2024: राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का महत्व एवं उद्देश्य

National Tourism Day 2024: राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का महत्व एवं उद्देश्य

भारत में प्रत्येक वर्ष 25 जनवरी को राष्ट्रीय पर्यटन दिवस मनाया जाता है। राष्ट्रीय पर्यटन दिवस भारत में पर्यटन स्थलों के प्रचार- प्रसार के लिए प्रति वर्ष मनाया जाता है। भारत में अलग-अलग राज्यों की संस्कृति और परंपराएं हैं। भारत अपनी विविधताओं के लिए मशहूर हैं। भारत में कई ऐतिहासिक,सांस्कृतिक और धार्मिक पर्यटन स्थल हैं। भारत की खूबसूरती, ऐतिहासिकता, प्राकृतिक सुंदरता और संस्कृति के प्रचार के लिए पर्यटन दिवस मनाया जाता है।

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस मनाने का फैसला भारत सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था के लिए पर्यटन के महत्व के बारे में जागरूक करने के लिए किया था।पर्यटन से करोड़ों लोगों को रोजगार मिलता है। देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने में पर्यटन उद्योग महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। भारत के खूबसूरत पर्यटन स्थल भारतीयों ही नहीं विश्व के पर्यटकों को भी आकर्षित करते हैं। आईए जानते हैं पर्यटन दिवस के इतिहास, महत्व और उद्देश्य के बारे में

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का इतिहास (History of National Tourism Day)

वैसे तो 27 सितंबर को ‘विश्व पर्यटन दिवस’ के रूप में मनाया जाता है, लेकिन भारत में राष्ट्रीय पर्यटन दिवस(National Tourism y)25 जनवरी को मनाया जाता है। भारत में पर्यटन दिवस मनाने की शुरुआत स्वतंत्रता प्राप्ति के पास पश्चात 1948 में ही हो गई थी। दिल्ली में इसका पहला हेड क्वार्टर रखा गया था, जिसे बाद में मुंबई शिफ्ट कर दिया गया था। 1981 में कोलकाता और चेन्नई में इसके दो और ऑफिस खोले गए। इसके पश्चात पर्यटन और संचार मंत्रालय के अधीन पर्यटन विभाग 1998 में बनाया गया।

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का महत्व (Significance of National Tourism Day)

भारत विविध भाषाओं और विविध धर्मों का देश है। जहां कुछ मीलों की दूरी पर भाषा और बोलियां बदल जाती हैं। भारत के प्रत्येक राज्य में कोई ना कोई महत्वपूर्ण ऐतिहासिक या धार्मिक पर्यटन स्थल है। भारत देश में खूबसूरत नेशनल पार्क, विश्व प्रसिद्ध ऐतिहासिक धरोहरें, मनमोहक फूलों की घाटियां,खूबसूरत हिल स्टेशन, मन को सुकून देने वाले समुद्री तट बर्फ से आच्छादित मठ और प्राचीन तीर्थ स्थल हैं,जिसे देखने के लिए विश्व के कोने-कोने से पर्यटक आते हैं।

यही नहीं अब तो भारत में मेडिकल टूरिज्म को भी बढ़ावा दिया जा रहा है, जिसके तहत विदेशों से लोग अपना इलाज करने के लिए भारत का रूख कर रहे हैं क्योंकि भारत में उच्चतम तकनीक के अस्पतालों की भी सुविधा है। राष्ट्रीय पर्यटन दिवस आर्थिक जीवन शक्ति का उत्सव है। पर्यटन उद्योग रोजगार प्रदान करता है, उद्यमिता को बढ़ावा देता है, होटल और रेस्टोरेंट से लेकर स्थानीय कार्यक्रम और टूर गाइड तक पर्यटन की आर्थिक लहरें व्यवसायों के व्यापक स्पेक्ट्रम को लाभान्वित करती हैं।

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का उद्देश्य (Objectives of National Tourism Day)

पर्यटन उद्योग को भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ कहा जाता है। राष्ट्रीय पर्यटन दिवस का मुख्य उद्देश्य है, भारतीय पर्यटन स्थलों को प्रचार प्रसार के माध्यम से विश्व पटल पर लाना। राष्ट्रीय पर्यटन दिवस सामाजिक, राजनीतिक, वित्तीय और सांस्कृतिक मूल्यों के महत्व के प्रति लोगों को जागरूक करता है। पर्यटन दिवस के माध्यम से भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करना इस दिन का महत्वपूर्ण उद्देश्य है जिसे पूरा करने के लिए भारत सरकार द्वारा प्रत्येक वर्ष राष्ट्रीय पर्यटन दिवस मनाने की घोषणा की गई।

पर्यटन का अर्थव्यवस्था में योगदान

विश्व यात्रा और पर्यटन परिषद के अनुसार 2021 में सकल घरेलू उत्पाद में यात्रा और पर्यटन के कुल योगदान के मामले में भारत छठवें स्थान पर है। यात्रा और पर्यटन ने सकल घरेलू उत्पाद में 5.8 प्रतिशत का योगदान और क्षेत्र में 32.1 मिलियन रोजगार सृजित किया जो 2021 में कुल रोजगारों के 6.9% के बराबर है। विश्व आर्थिक मंच के यात्रा और पर्यटन सूचकांक (2021) में भारत 54वें स्थान पर है।

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस,2024 की थीम (Theme of National Tourism Day, 2024)

राष्ट्रीय पर्यटन दिवस प्रत्येक वर्ष एक थीम के तहत मनाया जाता है। वर्ष 2024 की राष्ट्रीय पर्यटन दिवस की थीम है-

“सतत यात्राएं ,कालातीत यादें ।”
(Sustainable Journeys,Timeless Memories.)