भारत-चीन सैन्य झड़प का वीडियो हो रहा वायरल (Video of India-China military skirmishes is going viral)

India China Clash On Border : जनपंचायत हिंदी न्यूज़ (Janpanchayat Hindi News) :चीनी सैनिकों ने एलएसी का उल्लंघन करने की कोशिश की। घटना 9 दिसंबर की है, बताया जा रहा है कि चीनी सेना सोची-समझी साजिश के तहत 300 सैनिकों के साथ यांगत्से इलाके में भारतीय पोस्ट को हटाने पहुंची थी। चीनी सैनिकों के पास कटीली लाठी और डंडे भी थे लेकिन भारतीय जवानों ने तुरंत मोर्चा संभाल लिया। इसके बाद दोनों सेनाओं के बीच झड़प हुई भारतीय जवानों को भारी पड़ता देख चीनी सैनिक पीछे हट गए। बताया जा रहा है कि चीनी सैनिकों ने पत्थरबाजी भी की। भिड़ंत में दोनों ओर के सैनिक जख्मी हुए हैं। भारत के छह जवानों को इलाज के लिए गुवाहाटी लाया गया है।
Indo China Military Fight, India Chin fight on Border,

India-China Tawang border clash VIDEO

जनपंचायत हिंदी न्यूज़ (Janpanchayat Hindi News) :चीनी सैनिकों ने एलएसी का उल्लंघन करने की कोशिश की। घटना 9 दिसंबर की है, बताया जा रहा है कि चीनी सेना सोची-समझी साजिश के तहत 300 सैनिकों के साथ यांगत्से इलाके में भारतीय पोस्ट को हटाने पहुंची थी। चीनी सैनिकों के पास कटीली लाठी और डंडे भी थे लेकिन भारतीय जवानों ने तुरंत मोर्चा संभाल लिया। इसके बाद दोनों सेनाओं के बीच झड़प हुई भारतीय जवानों को भारी पड़ता देख चीनी सैनिक पीछे हट गए। बताया जा रहा है कि चीनी सैनिकों ने पत्थरबाजी भी की। भिड़ंत में दोनों ओर के सैनिक जख्मी हुए हैं। भारत के छह जवानों को इलाज के लिए गुवाहाटी लाया गया है।
चीनी सैनिक तवांग (Tawang) सेक्टर में हमले की तैयारी 15 दिन से कर रहे थे। 9 दिसंबर को वे एक रणनीति के तहत ही वहां पर पहुंचे थे लेकिन चीनी सैनिकों को देख 17000 फीट की ऊंचाई पर तैनात भारतीय जवानों ने मोर्चा संभाला।

इस संदर्भ में भारतीय सेना (Indian Army) ने कहा है कि 2006 से दोनों देश अपनी–अपनी तरफ क्लेम लाइन तक पेट्रोलिंग करते हैं। 9 दिसंबर 2022 को चीनी सैनिक एलएसी सेक्टर में आगे बढ़े जिसका सामना हमारी सेना ने मजबूती के साथ किया। बाद में दोनों देशों के सैनिक वहां से पीछे हटे। तत्पश्चात भारतीय चीनी कमांडर के बीच फ्लैग मीटिंग हुई और शांति को लेकर बातचीत की गई।
भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Indian Defense Minister Rajnath Singh) ने संसद ने यह बयान दिया है, “9 दिसंबर को पीएलए ट्रूप (PLA Troops) ने तवांग(Tawang) से सेक्टर के यांगत्से एरिया में एक्चुअल कंट्रोल लाइन का अतिक्रमण करते हुए उसे बदलने का प्रयास किया। चाइना के इस प्रयास का हमारी सेना ने दृढ़ता के साथ जवाब दिया। भारतीय सेना में पीएलए को अतिक्रमण करने से रोका, उनकी पोस्ट पर वापस जाने के लिए मजबूर कर दिया। हमारे किसी भी सैनिक की ना तो मृत्यु हुई है और न ही कोई गंभीर रूप से घायल हुआ है। इस मुद्दे को चीनी पक्ष के साथ कूटनीतिक स्तर पर भी उठाया गया है।”