June 25, 2024

Delhi-Ghaziabad-Meerut RRTS corridor Live : पीएम मोदी ने दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर के प्राथमिकता वाले खंड का उद्घाटन किया

Delhi-Ghaziabad-Meerut RRTS corridor News : सरकार नए विश्व स्तरीय परिवहन बुनियादी ढांचे के निर्माण के माध्यम से क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को बदलने के लिए आरआरटीएस परियोजना विकसित कर रही है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने आज उत्तर प्रदेश के साहिबाबाद रैपिडएक्स स्टेशन पर दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर (Delhi-Ghaziabad-Meerut RRTS corridor) के बहुप्रतीक्षित प्राथमिकता खंड का उद्घाटन किया। उन्होंने साहिबाबाद को दुहाई डिपो से जोड़ने वाली देश की पहली रैपिडएक्स ट्रेन ‘नमो भारत’ को भी हरी झंडी दिखाई, जो देश में क्षेत्रीय रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) के शुभारंभ का प्रतीक है। सरकार नए विश्व स्तरीय परिवहन बुनियादी ढांचे के निर्माण के माध्यम से क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को बदलने के लिए आरआरटीएस परियोजना विकसित कर रही है।

Delhi-Ghaziabad-Meerut RRTS corridor News : सरकार नए विश्व स्तरीय परिवहन बुनियादी ढांचे के निर्माण के माध्यम से क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को बदलने के लिए आरआरटीएस परियोजना विकसित कर रही है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने आज उत्तर प्रदेश के साहिबाबाद रैपिडएक्स स्टेशन पर दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर (Delhi-Ghaziabad-Meerut RRTS corridor) के बहुप्रतीक्षित प्राथमिकता खंड का उद्घाटन किया। उन्होंने साहिबाबाद को दुहाई डिपो से जोड़ने वाली देश की पहली रैपिडएक्स ट्रेन ‘नमो भारत’ को भी हरी झंडी दिखाई, जो देश में क्षेत्रीय रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) के शुभारंभ का प्रतीक है। सरकार नए विश्व स्तरीय परिवहन बुनियादी ढांचे के निर्माण के माध्यम से क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को बदलने के लिए आरआरटीएस परियोजना विकसित कर रही है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को साहिबाबाद रैपिडएक्स स्टेशन पर दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) कॉरिडोर (साहिबाबाद रैपिडएक्स स्टेश) के प्राथमिकता वाले खंड का उद्घाटन किया – एक अत्याधुनिक क्षेत्रीय गतिशीलता समाधान जिसका उद्देश्य देश में क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को बदलना है। नए विश्व स्तरीय परिवहन बुनियादी ढांचे का निर्माण।

यह परियोजना नए विश्व स्तरीय परिवहन बुनियादी ढांचे के निर्माण के माध्यम से देश में क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को बदलने के प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण के अनुरूप विकसित की गई है। आरआरटीएस एक नई रेल-आधारित, अर्ध-उच्च गति, उच्च आवृत्ति वाली कम्यूटर ट्रांज़िट प्रणाली है।

पीएम मोदी ने स्कूली बच्चों और रैपिडएक्स ट्रेन के चालक दल के साथ बातचीत की – ‘नमो भारत’

पीएम मोदी ने दिल्ली-मेरठ रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के पहले चरण को हरी झंडी दिखाई

पीएम मोदी ने दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर के प्राथमिकता वाले खंड का उद्घाटन किया

रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) क्या है? (What is the Regional Rapid Transit System (RRTS))

रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (Regional Rapid Transit System, RRTS) एक नई रेल-आधारित, अर्ध-उच्च गति, उच्च आवृत्ति कम्यूटर ट्रांजिट प्रणाली है। ट्रेन की डिजाइन स्पीड 180 किलोमीटर प्रति घंटा है। हालांकि, ट्रेन अधिकतम 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी। यह हर 15 मिनट में इंटरसिटी आवागमन के लिए हाई-स्पीड ट्रेनें प्रदान करेगा, जो आवश्यकता के अनुसार हर 5 मिनट की आवृत्ति तक जा सकती है।

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर की लागत (Cost of Delhi-Ghaziabad-Meerut RRTS Corridor)

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस (Delhi-Ghaziabad-Meerut RRTS corridor) को 30,000 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से विकसित किया जा रहा है। यह गाजियाबाद, मुरादनगर और मोदीनगर के शहरी केंद्रों से गुजरते हुए एक घंटे से भी कम समय में दिल्ली को मेरठ से जोड़ेगा।

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर के प्राथमिकता खंड के बारे में (About Priority Section of Delhi-Ghaziabad-Meerut RRTS corridor)

17 किमी लंबा प्राथमिकता वाला खंड साहिबाबाद से दुहाई डिपो तक फैला है। प्राथमिकता अनुभाग में पांच स्टेशन होंगे। ये हैं- साहिबाबाद, गाजियाबाद, गुलधर, दुहाई और दुहाई डिपो। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (NCRTC) को इस खंड पर RAPIDX सेवा के संचालन के लिए इस साल जून में मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त (CMRS) से मंजूरी मिल गई है।

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर का महत्व (Importance of Delhi-Ghaziabad-Meerut RRTS corridor)

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर के प्राथमिकता खंड पर क्षेत्रीय रेल सेवा की शुरुआत के साथ, यात्रियों को दोनों गंतव्यों के बीच तेज यात्रा विकल्पों का आनंद मिलेगा। यह यात्रा का आधुनिक, टिकाऊ, सुविधाजनक, तेज़, सुरक्षित और आरामदायक साधन प्रदान करेगा। कॉरिडोर के पूरा होने पर, आरआरटीएस दिल्ली और मेरठ के बीच यात्रा के समय को 40 प्रतिशत तक कम करने के लिए तैयार है।