July 12, 2024

पीएम मोदी के आक्रामक तेवर और विपक्ष के हंगामे के साथ संसद का विशेष सत्र संपन्न

पीएम मोदी के आक्रामक तेवर और विपक्ष के हंगामे के साथ संसद का विशेष सत्र संपन्न

विपक्ष के हंगामे और पीएम मोदी के आक्रामक तेवर के साथ संसद का विशेष सत्र बुधवार को संपन्न हो गया। संसद के सत्र में जहां विपक्ष ने सत्ता पक्ष पर तीखे सवालों की बौछार की, तो वही पीएम मोदी ने भी आक्रामक तेवर में विपक्ष के हर सवाल का जवाब दिया।

बुधवार को राज्यसभा में प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान विपक्ष ने वॉकआउट किया। विपक्ष के हंगामे और वॉक आउट के बाद भी पीएम मोदी ने अपना भाषण जारी रखा और पूरे 1 घंटे 50 मिनट का भाषण दिया।

प्रधानमंत्री द्वारा राज्यसभा में दिए गए भाषण की प्रमुख बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा का राज्यसभा में जवाब दिया। इस दौरान उन्होंने विपक्ष पर जमकर पलटवार किया। उन्होंने एक बार फिर कांग्रेस और राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा। पीएम मोदी ने कांग्रेस को परजीवी बताते हुए विपक्ष के नेता राहुल गांधी को निशाने पर रखा।

पीएम मोदी ने 5 साल के विकास का रखा ब्लूप्रिंट

राज्यसभा में अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अगले 5 साल की विकास का ब्लूप्रिंट रखा और कहा कि “आने वाले 5 साल गरीबी के खिलाफ लड़ाई में निर्णायक वर्ष होंगे। यह देश गरीबी के खिलाफ लड़ाई में विजयी होकर रहेगा। यह 10 साल के अनुभव के आधार पर बहुत विश्वास के साथ कह रहा हूं, जब देश दुनिया की तीसरी बड़ी इकोनॉमी बनेगा तो इसका प्रभाव जीवन के हर क्षेत्र पर पड़ने वाला है।”

कौन है साकार हरि बाबा उर्फ ‘भोले बाबा’ ? जिनके सत्संग में हुआ हाथरस हादसा

विपक्ष के वॉक आउट पर बोले पीएम मोदी

विपक्ष द्वारा हंगामा करने और सदन से वॉक आउट पर पीएम मोदी ने कहा कि स/140 करोड़ देशवासियों ने जो जनादेश दिया है उसको यह पचा नहीं पा रहे हैं। कल उनके हथकंडे फेल हो गए और आज उनमें लड़ने का हौसला भी नहीं रहा ।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा हमें रिफॉर्म से घबराने की जरूरत नहीं

पीएम मोदी ने कहा “क्लाइमेट चेंज के कारण प्राकृतिक आपदाओं की स्थिति बढ़ती जा रही है। राज्यों को अपना सामर्थ्य बढ़ाना होगा। पीने के पानी की व्यवस्था को भी उतना ही महत्व देना होगा। ये सदी भारत की सदी है। जो देश हमारे साथ आजाद हुए वह बहुत तेजी से आगे निकल चुके हैं। अब स्थिति को बदलना होगा। हमें रिफॉर्म से घबराने की जरूरत नहीं है। सत्ता चली जाएगी, इससे भयभीत होने की जरूरत नहीं है। सत्ता हथियाये रखने की जरूरत नहीं है। विकसित भारत किसी एक व्यक्ति का मिशन नहीं है, ये 140 करोड़ देशवासियों का मिशन है।”

विपक्षी एकता पर किया प्रहार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में विपक्षी गठबंधन पर जमकर प्रहार किया और कांग्रेस पर वार करते हुए कहा “यह कांग्रेस परजीवी है, देश की जनता ने आज भी इनको स्वीकार नहीं किया। वह देश की जनता का विश्वास हासिल नहीं कर पाए। यह कांग्रेस वाले बेशर्मी के साथ भ्रष्टाचारी बचाओ आंदोलन चलाने में लगे हैं। पहले हमसे पूछ रहे थे की कार्रवाई क्यों नहीं कर रहे हैं, अब जेल जा रहे हैं तो साथ तस्वीर दिखा रहे हैं।”

पीएम मोदी ने अरविंद केजरीवाल मामले पर कहा कि “घोटाला करें आप ,आप की शिकायत करें कांग्रेस और कार्रवाई हो तो गाली दे मोदी को, अब यह लोग साथी बन गए हैं।” उन्होंने कहा कि ये ऐसे लोग हैं जिनका दोहरा रवैया है, यह कैसा दोगलापन चल रहा है”

विपक्ष द्वारा संविधान हाथ में लेकर घूमने पर मोदी का तंज

पीएम मोदी ने कहा कि, “संविधान हमारे लिए कोई आर्टिकल का आर्टिकल का कंपाइनेशन मात्रा नहीं है। हमारे लिए संविधान की स्पिरिट और इसके शब्द बहुत मूल्यवान है, किसी भी सरकार के लिए नीति निर्धारण में संविधान मार्गदर्शक का काम करता है। उन्होंने कहा मैं जब लोकसभा में हमारी सरकार की तरफ से कहा कि 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाएंगे तो इन लोगों ने इसका विरोध किया था और कहा कि 26 जनवरी तो है ही। मैं हैरान हूं कि आज यही लोग संविधान की प्रति लेकर कूदते रहते हैं।”

एजेंसियों के दुरुपयोग पर पीएम मोदी का पलटवार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण के दौरान एजेंसियों के दुरुपयोग के आरोप पर पलटवार करते हुए कहा कि, “पहले एजेंसियों का दुरुपयोग किस तरह होता था। पीएम मोदी ने मुलायम सिंह का बयान पढ़ा और कहा कि “रामगोपाल जी नेता जी कभी झूठ बोलते थे क्या? जरा भतीजे को भी बताएं कि शिकंजा कसने कसा था।”

पीएम मोदी ने सुप्रीम कोर्ट की वह टिप्पणी भी याद दिलाई जिसमें सर्वोच्च न्यायालय ने यूपीए सरकार के दौरान सीबीआई को पिंजरे में बंद तोता बताया था। पीएम मोदी ने कहा, “भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई हमारे लिए मिशन है। यह हमारे लिए चुनाव में हार जीत का विषय नहीं है। मोदी ने आगे कहा हमारी सरकार भ्रष्टाचार पर कड़ा प्रहार करेगी,काले धन पर वार करेगी ।”

पीएम मोदी ने कहा, “मैं बिना लाग लपेट के कह रहा हूं, हमने एजेंसियों को भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचाराय के खिलाफ कार्रवाई के लिए खुली छूट दे रखी है। हां ईमानदारी के लिए ईमानदारी से काम करना चाहिए। कोई भी भ्रष्टाचारी बच नहीं पाएगा, यह मोदी की गारंटी है”

मणिपुर हिंसा पर क्या कहा पीएम मोदी ने ?

लोकसभा में राहुल गांधी ने मणिपुर हिंसा पर पीएम मोदी को घेरा था। इस पर जवाब देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि,” मणिपुर के हालात सामान्य बनाने के लिए सरकार प्रयासरत है। मणिपुर में हिंसा की घटनाएं लगातार कम हो रही है। केंद्र सरकार सभी से बातचीत करके सौहार्द्र का रास्ता खोलने की कोशिश कर रहा है। छोटे-छोटे ग्रुपों से बातचीत की जा रही है। समस्या के समाधान के लिए हर प्रकार के प्रयास किया जा रहे हैं।”

पीएम मोदी ने आगे कहा कि, “जो लोग अभी तक मणिपुर में आग में घी डालने की कोशिश कर रहे हैं, आगाह करना चाहता हूं कि यह हरकतें बंद करें एक समय आएगा जब मणिपुर ही रिजेक्ट करेगा उन लोगों को।” पीएम मोदी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा, “ये लोग यह ना भूले की इन्हीं हालातों की वजह से इस छोटे से राज्य में 10 बार राष्ट्रपति शासन लगाना पड़ा, यह हमारे कार्यकाल में नहीं हुआ।”

संविधान पर क्या कहा ?

पीएम मोदी ने कहा कि “देशवासियों ने भ्रम की राजनीति को ठुकराया है और भरोसे की राजनीति पर मुहर लगाई है। मेरे जैसे बहुत से लोग हैं सार्वजनिक जीवन में जिनके परिवार से कोई सरपंच भी नहीं रहा है, राजनीति से कोई सरोकार नहीं रहा है लेकिन आज महत्वपूर्ण पदों पर पहुंचे हैं। उसका कारण बाबा साहब का संविधान है और जनता ने मुहर लगाई है। बाबा साहेब के संविधान की वजह से ही मैं यहां पहुंचा हूं ।”