World Milk Day 2023: आइए जानते है,विश्व दुग्ध दिवस का इतिहास,महत्व और थीम के विषय में

World Milk Day 2023 || 01 May
1 जून को संपूर्ण विश्व में दुग्ध दिवस मनाया जाता है। यह दिन दूध के संबंध में ध्यान आकर्षित करने एवं दूध उद्योग से जुड़ी गतिविधियों के प्रचार प्रसार के लिए अवसर प्रदान करता है। दूध का सेवन हमारे शरीर को हृष्ट- पुष्ट बनाता है। दूध से हमें आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त होते हैं। दही, पनीर, मावा और मिठाइयां जैसे- बर्फी, पेड़ा, कलाकंद, रसगुल्ला, गुलाबजामुन यह सभी चीजें हम दूध से ही तैयार करते हैं।

World Milk Day 2023_Janpanchayat Hindi blogs

विश्व दुग्ध दिवस || World Milk Day 2023 || Special Days In June

आइए जानते है,विश्व दुग्ध दिवस का इतिहास,महत्व और थीम के विषय में

1 जून को संपूर्ण विश्व में दुग्ध दिवस मनाया जाता है। यह दिन दूध के संबंध में ध्यान आकर्षित करने एवं दूध उद्योग से जुड़ी गतिविधियों के प्रचार प्रसार के लिए अवसर प्रदान करता है। दूध का सेवन हमारे शरीर को हृष्ट- पुष्ट बनाता है। दूध से हमें आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त होते हैं। दही, पनीर, मावा और मिठाइयां जैसे- बर्फी, पेड़ा, कलाकंद, रसगुल्ला, गुलाबजामुन यह सभी चीजें हम दूध से ही तैयार करते हैं। दूध के महत्व को समझने और इसके लाभ के प्रति जागरूक करने के लिए प्रत्येक वर्ष 1 जून को विश्व दुग्ध दिवस मनाया जाता है। भारत में आज भी बहुत से लोग ऐसे हैं जिन्हें दूध नहीं मिल पाता है। और दूध के आभाव में उनके शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है।

विश्व दुग्ध दिवस का इतिहास (History of World Milk Day)

विश्व दुग्ध दिवस(World Milk Day) को पहली बार 1 जून 2001 को मनाया गया था। संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि संगठन के द्वारा 1 जून को विश्व स्तर पर हर वर्ष मनाने के लिए विश्व दुग्ध दिवस की पहली बार स्थापना की गई थी। 1 जून को विश्व दुग्ध दिवस (World Milk Day) के रूप में इसलिए चुना गया क्योंकि बहुत सारे देशों के द्वारा पहले से ही विश्व दुग्ध दिवस इसी समय के दौरान मनाया जा रहा था। पिछले वर्षों में 70 से अधिक देश विश्व दुग्ध दिवस में भाग ले रहे हैं। भारत में 26 नवंबर को ‘ राष्ट्रीय दुग्ध दिवस'(National Milk Day) मनाया जाता है।

दूध में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Nutrients found in Milk)

दूध शरीर के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्वों का एक बहुत अच्छा स्रोत है। दूध में पाए जाने वाले पोषक तत्वों से शरीर हृष्ट – पुष्ट और स्वस्थ रहता है। दूध में निम्न पोषक तत्व पाए जाते हैं-

कैलशियम, मैग्निशियम, जिंक फास्फोरस, आयोडीन, आयरन, पोटेशियम, विटामिन ए, विटामिन बी, राइबोफ्लेविन, विटामिन B12 ,प्रोटीन, स्वस्थ साइट आदि।
दूध में उच्च गुणवत्ता के प्रोटीन सहित आवश्यक और गैर- आवश्यक अमीनो एसिड और फैटी एसिड मौजूद होता है। दूध एक बहुत ही अधिक ऊर्जा प्रदान करने वाला आहार है। यह शरीर को तुरंत ऊर्जा प्रदान करता हैl इसलिए दूध का सेवन बचपन से ही करवाया जाता है और बुजुर्ग अवस्था में तो अच्छे स्वास्थ्य के लिए दूध का सेवन अत्यंत आवश्यक है

विश्व दुग्ध दिवस के अवसर पर होने वाली गतिविधियां

दूध के महत्व के बारे में आम लोगों के बीच विश्व दुग्ध दिवस उत्सव में एक असरदार क्रांति ले आई है विश्व दुग्ध दिवस संपूर्ण विश्व में प्रत्येक वर्ष सबके लिए दूध को नियमित आहार में जोड़ने के बारे में नए संदेश को प्राप्त करने का संपूर्ण अवसर ले आता है। पूरे विश्व भर में कई देशों में इस कार्यक्रम के द्वारा दूध के सभी पहलुओं को वार्षिक तौर पर मनाया जाता है। ‘ दक्षिण अफ्रीका दूध संसाधक संगठन’ (SAMPRO) के द्वारा दूध के स्क्रीन उपभोक्ता शिक्षा प्रोजेक्ट सहित एनजीओ, निजी और सरकारी स्वास्थ्य संस्थाओं के द्वारा उत्सव की विषय वस्तु से संबंधित विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।दूध के पोषण, स्वास्थ्य उपयोगिता को उपभोक्ताओं के बीच विशेष रुप से ध्यान आकर्षित करने के लिए प्रेस विज्ञप्ति आर्टिकल्स आदि प्रकाशित किए जाते हैं। बहुत सारी गतिविधियों के माध्यम से ऑनलाइन ‘ राष्ट्रीय डेयरी परिषद’ के द्वारा इसे मनाया जाता है।

विश्व दुग्ध दिवस की थीम (Theme of World Milk Day)

प्रत्येक वर्ष 1 जून को विश्व दुग्ध संगठन एक नई थीम जारी करता है। वर्ष 2022 के दुग्ध दिवस की थीम थी ‘ डेयरी नेट – जीरो’।
वर्ष 2023 के विश्व दुग्ध दिवस की थीम है –
“आनंद डेयरी”
(Anand Dairy)।

Read More Hindi Blogs

https://janpanchayat.com/category/health-style/