World No Tobacco Day 2023 :कब और क्यों मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस?

World No Tobacco day || विश्व तंबाकू निषेध दिवस || Special Days In May || No Tobacco Day || 31 May || Health Blogs In Hindi || Hindi Blogs || Janpanchayat Hindi Blogs ​
कब और क्यों मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस?(When and Why World No Tobacco day is Celebrated)?
प्रत्येक वर्ष 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है। विश्व तंबाकू निषेध दिवस को ‘ विश्व धूम्रपान निषेध दिवस’ अथवा ‘ अंतर्राष्ट्रीय तंबाकू निषेध दिवस’ के नामों से भी मनाया जाता है। इस दिन विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से तंबाकू के कारण स्वास्थ्य पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभाव के बारे में बताया जाता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य है, तंबाकू नियंत्रण कानून के प्रभावी क्रियान्वयन और तंबाकू के हानिकारक प्रभाव के बारे में लोगों को जागरूक करना।

World No Tobacco Day_Janpanchayat Hindi Blogs

World No Tobacco day || विश्व तंबाकू निषेध दिवस || Special Days In May || No Tobacco Day || 31 May || Health Blogs In Hindi || Hindi Blogs || Janpanchayat Hindi Blogs

कब और क्यों मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस?(When and Why World No Tobacco day is Celebrated)?

प्रत्येक वर्ष 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है। विश्व तंबाकू निषेध दिवस को ‘ विश्व धूम्रपान निषेध दिवस’ अथवा ‘ अंतर्राष्ट्रीय तंबाकू निषेध दिवस’ (World No Tobacco day) के नामों से भी मनाया जाता है। इस दिन विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से तंबाकू के कारण स्वास्थ्य पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभाव के बारे में बताया जाता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य है, तंबाकू नियंत्रण कानून के प्रभावी क्रियान्वयन और तंबाकू के हानिकारक प्रभाव के बारे में लोगों को जागरूक करना।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस का इतिहास (History of World No Tobacco day)

तंबाकू के हानिकारक प्रभाव को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के सदस्यों ने 1887 में एक प्रस्ताव पारित किया। इस प्रस्ताव के द्वारा 7 अप्रैल 1988 से इस दिन को मनाने का निर्णय लिया गया। इसके पश्चात विश्व स्वास्थ्य संगठन के सदस्यो ने 31 मई का दिन विश्व तंबाकू निषेध दिवस के रूप में निर्धारित किया। तब से धूम्रपान के सेवन से होने वाली हानियां और खतरों से विश्व जनमत को अवगत कराकर उत्पाद एवं सेवन को कम करने की दिशा में आवश्यक कार्रवाई करने का प्रयास किया जाता है।

क्यों मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस (Why, World No Tobacco day is Celebrated)?

प्रत्येक वर्ष 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है। विश्व तंबाकू निषेध दिवस को ‘ विश्व धूम्रपान निषेध दिवस’ अथवा ‘ अंतर्राष्ट्रीय तंबाकू निषेध दिवस’ के नामों से भी मनाया जाता है। इस दिन विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से तंबाकू के कारण स्वास्थ्य पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभाव के बारे में बताया जाता है। इस दिन को मनाने का उद्देश्य है, तंबाकू नियंत्रण कानून के प्रभावी क्रियान्वयन और तंबाकू के हानिकारक प्रभाव के बारे में लोगों को जागरूक करना।

कब और क्यों मनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस?(When and Why World No Tobacco day is Celebrated)?

संपूर्ण विश्व को तंबाकू एवं इसके उत्पादों के उपयोग पर रोक लगाने, तंबाकू के इस्तेमाल को कम करने की लिए जागरूक करने और प्रोत्साहित करने के लिए ‘ विश्व तंबाकू निषेध दिवस'(World no Tobacco day) मनाया जाता है। विश्व तंबाकू दिवस, आम जनता और सरकार का ध्यान विश्व स्तर पर तंबाकू के उपयोग से बचाने तथा पर्यावरण को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए सभी प्रभावशाली कदम उठाने की वास्तविक जरूरत की ओर केंद्रित करने के लिए मनाया जाता है।

कैसे बनाया जाता है विश्व तंबाकू निषेध दिवस (How, World No Tobacco day is Celebrated)?

विश्व तंबाकू निषेध अभियान की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित करने के लिए इस दिन नई थीमऔर तंबाकू इस्तेमाल या धूम्रपान संबंधी उत्पादों के बुरे प्रभावों से संबंधित जानकारी पर पोस्टर की प्रदर्शनी की जाती है। विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World no Tobacco day) के अवसर पर गैर-लाभकारी और सार्वजनिक स्वास्थ्य संगठन, देश के विभिन्न क्षेत्रों से व्यक्ति,वैश्विक सफलता की प्राप्ति के लिए इस अभियान में सक्रियता से भाग लेते हैं। इस दिन विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों को तंबाकू के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले हानिकारक प्रभाव के बारे में बताया जाता है। इस दिन के लिए प्रति वर्ष प्रतीकात्मक रूप में एक नारा निर्धारित किया जाता है।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस का उद्देश्य (Objectives of World No Tobacco day)

विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco day) का मुख्य उद्देश्य है तंबाकू नियंत्रण कानून के प्रभावी क्रियान्वयन और तंबाकू के हानिकारक प्रभाव के बारे में लोगों में जागरूकता फैलाना। इसके लिए 11वीं योजना में कुल वित्तीय परिव्यय 182 करोड़ रुपए रखा गया था।

WHO की रिपोर्ट

तंबाकू का बढ़ता सेवन स्वास्थ्य के लिए बेहद खतरनाक सिद्ध हो रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)के अनुसार तंबाकू के सेवन से होने वाली बीमारियों से प्रतिवर्ष 5 मिलियन लोगों की मौत हो जाती है। जिनमें 1.5 मिलियन महिलाएं शामिल हैं। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार विश्व भर में 80 फ़ीसदी पुरुष तंबाकू का सेवन करते हैं। लेकिन कुछ देशों में महिलाओं में भी यह प्रवृत्ति तेजी से बढ़ रही है।
विश्व भर में तंबाकू सेवन करने वालों का 10 फ़ीसदी भारत में है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार दुनिया के 125 देशों में तंबाकू का उत्पादन होता है। भारत में 72 करोड़ पचास लाख किलो तंबाकू की पैदावार होती है। तंबाकू निर्यात के मामले में भारत, ब्राजील, अमेरिका, चीन, मलावी और इटली के बाद छठे स्थान पर है। दुनिया के किसी अन्य देश की तुलना में भारत में तंबाकू से होने वाली बीमारियों से मरने वाले लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है।

तंबाकू सेवन से होने वाले नुकसान

एक रिसर्च के अनुसार भारत में प्रत्येक दसवां व्यक्ति किसी न किसी रूप में तंबाकू का सेवन करता है। तंबाकू में क्रोमियम , आर्सेनिक, बंजोपाइरिस, निकोटीन, नाइट्रोसामाइंस जैसे तत्व बहुत अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। तंबाकू से होने वाली गंभीर बीमारियां इस प्रकार हैं-
हृदय रोग, ब्रेस्ट कैंसर, लिवर कैंसर, फेफड़ों का कैंसर, मुंह का कैंसर, कोलन कैंसर, डायबिटीज का खतरा बढ़ जाना, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन आदि।

तंबाकू सेवन के दुष्प्रभाव

तंबाकू सेवन का हमारे स्वास्थ्य पर जो दुष्प्रभाव पड़ता है वह है- कैंसर होने का खतरा, सांस लेने में परेशानी, भूख ना लगना, थकान रहना, गले से जुड़ी समस्या तनाव रहना, खांसते समय खून आना, एवं अनिद्रा की शिकायत और लंबे समय तक खांसी आना इत्यादि।

  • सिगरेट और तंबाकू में मौजूद कैंसर जन्य पदार्थ शरीर की कोशिकाओं के विकास को रोककर उनके नष्ट होने और कैंसर बनाने में मदद करता है।
  • किसी भी प्रकार का धुम्रपान 90% से अधिक फेफड़े के कैंसर, ब्रेन हेमरेज और पक्षाघात का प्रमुख कारण है।
  • धूम्रपान के धुए में मौजूद निकोटीन, कार्बन मोनोऑक्साइड जैसे पदार्थ हृदय ग्रंथियां और धमनियों से संबंधित रोगों के कारण है।
  • लंबे समय तक धूम्रपान करने से मुंह गर्भाशय, और पाचक ग्रंथि में कैंसर होने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है।
  • तंबाकू खाने से धीरे-धीरे व्यक्ति का शरीर खराब हो जाता है और यह दिमाग पर भी बुरा असर डालता है।

अंतर्राष्ट्रीय धूम्रपान निषेध सप्ताह

धूम्रपान समाज के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक चीज है। अतः आम जनता को धूम्रपान के विनाशकारी प्रभाव से अधिक जागरूक बनाकर समाज के लोगों को धूम्रपान के सेवन से बचाने की दिशा में विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco day) महत्वपूर्ण अवसर है। 25 मई को ‘ अंतर्राष्ट्रीय धूम्रपान निषेध सप्ताह’ आरंभ होता है, जिसके अंतर्गत, धूम्रपान उद्योग, स्वास्थ्य के लिए लक्ष्यों के व्यवहारिक होने की दिशा में रुकावट, धूम्रपान उद्योग के मुकाबले में धार्मिक मान्यताएं, धुम्रपान उद्योग की एक अन्य चाल हुक्का, युवा, नवयुवा और महिलाएं धूम्रपान उद्योग के लक्ष्य, धूम्रपान को रोकना सबकी जिम्मेदारी, धूम्रपान के विस्तार के मुकाबले में विधायिका, न्यायपालिका और कार्यपालिका की जिम्मेदारी और धूम्रपान अंतरराष्ट्रीय कंपनियों को बंद किया जाए, जैसे विषयों की समीक्षा की जाती है, जिससे इस उपाय से धूम्रपान के सेवन में कमी और आमजन के स्वास्थ्य में वृद्धि की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाया जा सके।

विश्व धूम्रपान निषेध दिवस 2023 की थीम (Theme of World No Tobacco day 2023)


विश्व धूम्रपान निषेध दिवस 2023 की थीम है-
“हमें भोजन की आवश्यकता है, तंबाकू की नहीं।”
“(We need Food,not Tobacco)”.

“यदि आप धूम्रपान कर रहे हैं तो आप जीवित नहीं हैं। आप विनाशकारी जीवन की और छोटे- छोटे कदम उठा रहे हैं। स्वस्थ और खुशहाल जीवन जीने के लिए धूम्रपान और तंबाकू को कहे ना।”

“धूम्रपान जानलेवा है यह सिर्फ आपको नहीं बल्कि सूची में कई को मारता है। यह आपको और आपके परिवार को मारता है।”

Read More Health Related Blogs

https://janpanchayat.com/category/health-style/