SBI Submits Details of Electoral Bonds: SBI ने चुनाव आयोग को सौंपी इलेक्टोरल बांड की जानकारी

SBI Submits Details of Electoral Bonds: भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने चुनाव आयोग को इलेक्टोरल बांड की जानकारी सौंप दी है। सुप्रीम कोर्ट ने एसबीआई से मंगलवार को वर्किंग आवर्स खत्म होने से पहले रिपोर्ट देने को कहा था और स्टेट बैंक ने इस डेडलाइन का पालन करते हुए इलेक्टोरल बॉन्ड की डिटेल्स इलेक्शन कमिशन में जमा कर दी है।

SBI Submits Details of Electoral Bonds: SBI ने चुनाव आयोग को सौंपी इलेक्टोरल बांड की जानकारी

SBI Submits Details of Electoral Bonds: भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने चुनाव आयोग को इलेक्टोरल बांड की जानकारी सौंप दी है। सुप्रीम कोर्ट ने एसबीआई से मंगलवार को वर्किंग आवर्स खत्म होने से पहले रिपोर्ट देने को कहा था और स्टेट बैंक ने इस डेडलाइन का पालन करते हुए इलेक्टोरल बॉन्ड की डिटेल्स इलेक्शन कमिशन में जमा कर दी है।

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने मंगलवार को चुनावी बांड का पूरा डाटा चुनाव आयोग को सौंप दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने एसबीआई को बड़ा झटका देते हुए चुनावी बांड संबंधी जानकारी का खुलासा करने के लिए समय सीमा को बढ़ाने की मांग करने वाली याचिका को खारिज कर दिया था। साथ ही कोर्ट ने आदेश दिया था कि एसबीआई 12 मार्च को कामकाजी घंटे खत्म होने तक चुनावी बांड की पूरी जानकारी चुनाव आयोग को दे।एसबीआई ने मंगलवार को शाम 5:30 बजे तक पूरा डाटा निर्वाचन आयोग को भेज दिया है।

Must Read: क्या है चुनावी बॉन्ड (What is Electoral Bond) ?

पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने 15 फरवरी को एक ऐतिहासिक निर्णय सुनाते हुए केंद्र की चुनावी बांड योजना को रद्द कर दिया था। इसे असंवैधानिक करार देते हुए निर्वाचन आयोग को चंदा देने वालों, चंदा के रूप में दी गई राशि और चंदा प्राप्तकर्ताओं का 13 मार्च तक खुलासा करने का आदेश दिया था।

लोकसभा चुनाव से पहले आए इस निर्णय में कोर्ट ने चुनावी बांड योजना को तत्काल बंद करने तथा इस योजना के लिए अधिकृत वित्तीय संस्थान यानी एसबीआई को 12 अप्रैल 2019 से अब तक खरीदे गए चुनावी बांड का विस्तृत विवरण 6 मार्च तक सौंपने का आदेश दिया था।

Must Read: क्या है नागरिकता संशोधन कानून और इसका इतिहास (What is Citizenship Amendment Act and Its History ) ?