June 25, 2024

बीबीएयू के छात्र-छात्राओं ने किया भरवारा सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का शैक्षिक भ्रमण

घरों और बड़ी फैक्ट्रियों से निकलने वाला गंदा पानी कहां जाता है और दूषित जल को दोबारा प्रयोग में लाने के लिए किस प्रकार से सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का प्रयोग किया जाता है। इन तमाम जानकारियों का प्रत्यक्ष अनुभव कराने के लिए बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय वि‍श्‍वविद्यालय (बीबीएयू) के बीटेक के सिविल इंजिनियरिंग और इंवायरमेंटल साइंस के छात्र-छात्राओं को सुएज की ओर से एशिया के सबसे बड़े भरवारा सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का एक शैक्षिक भ्रमण करवाया गया।
Sewage Treatment Plant (STP) News Hindi, Lucknow Hindi News,

B.Tech Civil Engineering and Environmental Science of Babasaheb Bhimrao Ambedkar Central University (BBAU) were given an educational tour of Asia’s largest Sewage Treatment Plant (STP) by Suez.

भ्रमण के दौरान नगर निगम जलकल और सुएज इंडिया की टीम ने छात्र-छात्राओं के सवालों के दिए जवाब

Suez News : Lucknow Hindi News

लखनऊ न्यूज़ 3 अक्टूबर 2022: घरों और बड़ी फैक्ट्रियों से निकलने वाला गंदा पानी कहां जाता है और दूषित जल को दोबारा प्रयोग में लाने के लिए किस प्रकार से सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का प्रयोग किया जाता है। इन तमाम जानकारियों का प्रत्यक्ष अनुभव कराने के लिए बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय वि‍श्‍वविद्यालय (बीबीएयू) के बीटेक के सिविल इंजिनियरिंग और इंवायरमेंटल साइंस के छात्र-छात्राओं को सुएज की ओर से एशिया के सबसे बड़े भरवारा सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का एक शैक्षिक भ्रमण करवाया गया।

इस दौरान सुएज़ इंडिया के परियोजना निदेशक राजेश मठपाल ने छात्र-छात्राओं को बताया कि हमारे घरों और फैक्ट्रियों से निकलने वाला पानी किस तरह से नदी, तालाब में पहुंचकर दूषित कर देता है। इसको रोकने और दूषित जल को दोबारा प्रयोग में लाने के लिए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का प्रयोग किया जाता है। इस दौरान मौके पर मौजूद स्टूडेंट्स को एसटीपी किस तरह से काम करता है, इसकी संरचना कैसे होती है व अन्य तमाम जानकारी दी गई और साथ ही उनके सवालों के जवाब भी दिए गए। इसके अलावा उन्होंने छात्र-छात्राओं को शहर के सीवरेज सिस्टम की भी जानकारी दी गई।

Suez News Lates : Lucknow News Hindi

भ्रमण के दौरान यूपी जल निगम के जीएम एस.के. शर्मा ने छात्र-छात्राओं को एसटीपी की बुनियादी संरचना के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में गंदे पानी और घर में प्रयोग किये गये जल के प्रदूषणकारी अवयवों को विशेष विधि से साफ किया जाता है। इसको साफ करने के लिए भौतिक, रासायनिक और जैविक विधि का प्रयोग किया जाता है, जिससे दूषित पानी दोबारा प्रयोग में लाने लायक बन जाता है।

शैक्षिक भ्रमण में छात्रों के साथ जीएम जल निगम एसके शर्मा, यूपी जल निगम के जीएम एस.के. शर्मा एवं एक्सईएन सौरभ श्रीवास्तव, रंधावा इंजीनियरिंग यूएसए के जी रंधावा, बीबीएयू के प्रो. वी दत्ता, डॉ जीवन सिंह समेत सुएज इंडिया के कर्मचारी व अधिकारी मौजूद रहे। सुएज परियोजना निदेशक राजेश मठपाल ने जानकारी दी कि नगर विकास विभाग के प्रमुख सचिव अमृत अभिजात के निर्देशानुसार छात्र-छात्राओं का शैक्षिक भ्रमण कराया गया। यहां आकर छात्र-छात्राओं को सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) और सीवरेज कनेक्शन के बारे में प्रत्यक्ष जानकारी ली साथ ही उन्हें उनके सवालों के जवाब भी दिए गए।