क्या है सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट (What is central vista project ?)

Central vista project(सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट) , भारत सरकार द्वारा जारी की गयी बहुत ही बड़ी और महत्वपूर्ण परियोजना है जो की पुराने सेंट्रल विस्टा के पुनर्विकास के लिए जारी की गयी है | सेंट्रल विस्टा प्रोझेक्ट में दिल्ली के केंद्र में 3.2 KM में फैली Central Vista नामक जगह जो की 1930 के दौरान अंग्रेजों द्वारा विकसित की गयी थी , को पुनर्विकसित किया जायेगा |

what is central vista project

what is central vista projectwhat is central vista project

सुप्रीम कोर्ट ने 5 जनवरी 2021 को Central vista project को आगे बढ़ने की अनुमति दे दी थी | |
सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों ( जस्टिस एएम खानविलकर, दिनेश माहेश्वरी और संजीव खन्ना ) की बेंच ने इसका फैसला सुनाया , ये फैसला 2-1 से सुनाया गया, जिनमे जस्टिस एएम खानविलकर और दिनेश माहेश्वरी ने पक्ष में फैसला सुनाया, जबकि जस्टिस संजीव खन्ना ने असहमति जताई |

संतरा विस्टा प्रोजेक्ट (Central vista project), भारत सरकार द्वारा जारी की गयी बहुत ही बड़ी और महत्वपूर्ण परियोजना है जो की पुराने centra vista  के redevelopment  के लिए जारी की गयी है |

central vista project में दिल्ली के केंद्र में  3.2 Km  में फैली central vista नमक जगह जो की 1930 के दौरान अंग्रेजों द्वारा विकसित की गयी थी , को पुनर्विकसित किया जायेगा |
इस पुनर्विकास के कार्य में कई प्रसिद्ध , प्रतिष्ठित और विख्यात भवनों को तोड़ा जायेगा जिनमे कई सारे सरकारी भवन भी शामिल होंगे , और एक नया संसद भवन बनाया जायेगा , जिसकी पूरी लागत लगभग 20,000 crore rupee बताया जा रहा है |

2019 में, केंद्र सरकार ने भारत के ‘power corridor’ को एक नई पहचान देने के लिए पुनर्विकास परियोजना की घोषणा की। इस योजना में 10 बिल्डिंग ब्लॉक्स के साथ एक नई संसद, प्रधान मंत्री और उपराष्ट्रपति के आवासों के निर्माण की परिकल्पना की गई है जो सभी सरकारी मंत्रालयों और विभागों को समायोजित करेगा।
इस परियोजना को केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय( Union Ministry of Housing and Urban Affairs) द्वारा 2024 तक पूरा करने का लक्ष्य है |

सेंट्रल विस्टा परियोजना की लागत क्या है ?

Central vista redevelopment पर 20,000 crore rupee खर्च होने का अनुमान है। इसमें से करीब 1,000 करोड़ रुपये का उपयोग नए संसद भवन के निर्माण के लिए किया जाएगा।

नए संसद का निर्माण क्यों हो रहा है ?

संसद भवन को बने हुए करीब 93 साल हो गए हैं , जो की अब सुरक्षा के दृष्टीकोण से खतनाक हो सकता है, ऐसा केंद्रीय आवास और शहरी मंत्रालय ( Union Ministry of Housing and Urban Affairs) का कहना है
प्रधान मंत्री के आवास को साउथ ब्लॉक के करीब और उपराष्ट्रपति का घर नॉर्थ ब्लॉक के करीब स्थापित किया जायेगा नए सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत |

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का निर्माण कार्य किस कंपनी ने लिया है ?

TATA Prjects ने सितंबर में, 861.90 crore rupee में नई संसद के निर्माण की बोली लगायी और L&T’s के 865 crore rupee की बोली को पीछे करते हुए बोली अपने नाम कर ली |
सरकार द्वारा अक्टूबर 2019 में डिजाइन को अंतिम रूप दिया गया । अहमदाबाद स्थित आर्किटेक्चर कंपनी HCP Design को इमारत के डिजाइन के लिए चुना गया ।

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का विरोध क्यों किया जा रहा है?

Covid-19 में देश जब बुरे हालत से गुज़र रहा था उस दौरान विपक्षी नेताओं ने सरकार से इस परियोजना को रद्द करने और कोरोनोवायरस संकट से लड़ने के लिए पहले ध्यान देने को बोला क्यूंकि इस पुनर्विकास में काफी खर्च होता |
अगर पर्यावरण की नज़र से देखा जाये तो कुछ पर्यावरण विद्वानों का कहना है की ये प्रोजक्ट पर्यावरण के लिए बहुत ही खतरनाक साबित हो है, इसलिए ये सारे लोग मिलके सरकार से अनुरोध कर रहे हैं, इस प्रोजेक्ट को रोकने के लिए और विपक्षी नेताओं का कहना है की कम से काम कोरोना महामारी ख़तम होने तक इस प्रोजेक्ट को शुरू ना किया जाये |

1 thought on “क्या है सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट (What is central vista project ?)

Comments are closed.