CRPF Raising Day 2023 : कब और क्यों मनाया जाता है केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल स्थापना दिवस ?

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल(CRPF) का स्थापना दिवस 27 जुलाई को मनाया जाता है। वर्ष 2023 में सीआरपीएफ अपना 85वा स्थापना दिवस मना रहा है।
एक लोकतांत्रिक देश में जनकल्याण एवं राष्ट्रीय हित में कानून निर्माण का कार्य विधायिका करती है। तथा उन कानूनों को पारित करने की जिम्मेदारी कार्यपालिका पर होती है। विधायिका द्वारा निर्मित एवं कार्यपालिका द्वारा पारित कानूनों का उचित ढंग से पालन कराने तथा कानून व्यवस्था बनाए रखने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी पुलिस निभाती है।
भारत के सभी राज्यों और केंद्र शासित राज्यों में कानून व्यवस्था संभालने के लिए राज्यों की अपनी पुलिस व्यवस्था तो होती ही है। इसके अतिरिक्त केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों की व्यवस्था भी होती है, जो केंद्र सरकार के अधीन होते हैं। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF )केंद्रीय सशस्त्र बलों में सबसे बड़ा सशस्त्र बल है जो केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करता है। CRPF का मुख्य कार्य है देश के किसी भी कोने में विपरीत परिस्थितियों को संभालना, प्रदेश एवं केंद्र शासित राज्यों में पुलिस के कार्य में उनकी सहायता करना तथा कानून व्यवस्था बनाए रखना और आतंकवाद विरोधी गतिविधियों को अंजाम देना।

kargil_vijay_diwas_Janpanchayat Hindi Blogs

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल स्थापना दिवस || Raising Day of Central Reserve Police Force || 27 July 2023 || CRPF Raising Day || CRPF Foundation Day

कब मनाया जाता है केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का स्थापना दिवस ? (When is the Raising Day of CRPF Celebrated) ?

CRPF Raising Day 2023: केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का स्थापना दिवस (CRPF Raising Day) 27 जुलाई को मनाया जाता है। वर्ष 2023 में सीआरपीएफ अपना 85वा स्थापना दिवस मना रहा है।
एक लोकतांत्रिक देश में जनकल्याण एवं राष्ट्रीय हित में कानून निर्माण का कार्य विधायिका करती है। तथा उन कानूनों को पारित करने की जिम्मेदारी कार्यपालिका पर होती है। विधायिका द्वारा निर्मित एवं कार्यपालिका द्वारा पारित कानूनों का उचित ढंग से पालन कराने तथा कानून व्यवस्था बनाए रखने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी पुलिस निभाती है।
भारत के सभी राज्यों और केंद्र शासित राज्यों में कानून व्यवस्था संभालने के लिए राज्यों की अपनी पुलिस व्यवस्था तो होती ही है। इसके अतिरिक्त केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों की व्यवस्था भी होती है, जो केंद्र सरकार के अधीन होते हैं। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF )केंद्रीय सशस्त्र बलों में सबसे बड़ा सशस्त्र बल है जो केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करता है। CRPF का मुख्य कार्य है देश के किसी भी कोने में विपरीत परिस्थितियों को संभालना, प्रदेश एवं केंद्र शासित राज्यों में पुलिस के कार्य में उनकी सहायता करना तथा कानून व्यवस्था बनाए रखना और आतंकवाद विरोधी गतिविधियों को अंजाम देना।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल स्थापना दिवस का इतिहास (History Of Raising Day of CRPF)

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल(CRPF ) 27 जुलाई 1939 को अस्तित्व में आया जब क्राउन रिप्रेजेंटेटिव पुलिस के नाम से 27 जुलाई 1939 को नीमच मध्य प्रदेश में प्रथम बटालियन के साथ स्थापित किया गया। आजादी के बाद 28 दिसंबर 1949 को संसद के एक अधिनियम द्वारा इस बल को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल(CRPF )नाम दिया गया। तत्कालीन गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल ने इस नए स्वतंत्र राष्ट्र की बदलती आवश्यकताओं के अनुसार इस बल के लिए एक बहुआयामी भूमिका की कल्पना की थी। अतः 19 मार्च 1950 को CRPF अधिनियम के लागू होने पर यह पुलिस बल केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल(CRPF )बन गया। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल 230 बटालियन और विभिन्न अन्य प्रतिष्ठानों के साथ भारत का सबसे बड़ा अर्धसैनिक बल माना जाता है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल आतंकवाद नक्सलवाद तथा अन्य भयावह हालातों का सामना करता है।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के क्या है कार्य (What is the Duty of CRPF)

CRPF पूर्वोत्तर क्षेत्र विद्रोह, जम्मू कश्मीर उग्रवाद, और वामपंथी उग्रवाद अर्थात नक्सलियों से प्रभावित क्षेत्र इन तीन कठिन क्षेत्रों में संघर्ष कर रहा है।CRPF की गतिविधियों के कारण आज नक्सलवाद के कारण मरने वाले लोगों की संख्या में कमी आई है। CRPF द्वारा किए जाने वाले महत्वपूर्ण कार्य इस प्रकार हैं-

  • आतंकवाद विरोधी ऑपरेशन
  • वाम चरमपंथ से निपटना
  • मतदान के समय तनावग्रस्त इलाकों में बड़े स्तर पर सुरक्षा व्यवस्था करना।
  • युद्ध काल में आक्रमण से बचाव
  • अति विशिष्ट लोगों तथा स्थानों की सुरक्षा करना
  • पर्यावरण एवं जीवो का संरक्षण
  • प्राकृतिक आपदाओं के समय राहत एवं बचाव कार्य करना
  • भीड़ नियंत्रण
  • दंगा नियंत्रण
  • संयुक्त राष्ट्र संघ के शांति मिशन में शामिल होना।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का प्रशिक्षण(Training of CRPF)

प्रशिक्षण और मनोबल किसी भी वर्दीधारी बल की रीढ की हड्डी होते है। आज के समय की जरूरत के हिसाब से एक वर्दीधारी जवान के पास रात को देखने के लिए उपकरण, आधुनिक हथियार और इन हथियारों को चलाने की योग्यता तथा उच्च तकनीक वाले रेडियो संपर्क उपकरण, भू स्थिति प्रणाली, नक्शों की समझ और जंगलों की जानकारी होना अनिवार्य है। CRPF के कार्यों की विभिन्नता को देखते हुए इनके प्रशिक्षण के लिए जवानों को कई तरह के अभ्यास ड्रिल कराए जाते हैं। जैसे- हथियार ड्रिल, वाहन ड्रिल, यूनिफॉर्म ड्रिल, खेल ड्रिल, रात्रि ड्रिल आदि। जवानों का आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए हेल स्लिदरिंग का कठिन अभ्यास कराया जाता है। जंगल में रहने के लिए 1 सप्ताह का प्रशिक्षण दिया जाता है। वास्तविक परिस्थितियों में संघर्ष के लिए इन सब का प्रशिक्षण दिया जाता है।
तरह – तरह की परिस्थितियों में CRPF की कार्य क्षमता को बढ़ाने की दृष्टि से देश भर में विशिष्ट कौशलों के विकास के लिए स्कूल स्थापित किए गए हैं। इन्हें आधारभूत प्रोत्साहित तथा निर्देशात्मक प्रकार का प्रशिक्षण दिया जाता है। इससे संबंधित पाठ्यक्रम इन संस्थानों में संचालित किए जाते हैं-

  • आंतरिक सुरक्षा अकादमी
  • केंद्रीय प्रशिक्षण कॉलेज- l
  • केंद्रीय प्रशिक्षण कॉलेज- ll
  • केंद्रीय प्रशिक्षण कॉलेज- lll
  • संधि नियुक्ति राजपत्रित अधिकारी सहायक कमांडेंट मूल प्रशिक्षण का पाठ्यक्रम
  • नवनियुक्त आरक्षको के लिए प्रशिक्षण केंद्र

देश की सुरक्षा में क्या है सीआरपीएफ की भूमिका(What is the Role of CRPF in Security of Country) ?

CRPF की स्थापना 27 जुलाई 1939 में अपराधियों और डकैतों से निपटने के लिए हुई थी लेकिन इस बल से अपेक्षाएं निरंतर बढ़ती जा रही हैं। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF)ने पिछले दशकों में अपनी दक्षता और कौशल का परिचय देते हुए घरेलू मोर्चे पर शत्रुओं को चुनौती दी है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF)हर परीक्षा में उतारी जाती है, चाहे वह वामपंथी उग्रवादियों का क्षेत्र हो, पूर्वोत्तर का जोखिम भरा पहाड़ी इलाका हो, पंजाब के कट्टर उग्रवादी हो या जम्मू कश्मीर में पनप रहे रहे आतंकवादी हो। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF)ने उग्रवादियों से संघर्ष करने के अतिरिक्त आम चुनाव, जम्मू-कश्मीर आंदोलन,अमरनाथ यात्रा कंधमाल की घटना जैसी अनेक परिस्थितियों में कानून व्यवस्था बनाए रखने में अहम भूमिका निभाई है। राष्ट्रीय आपदा के समय में सहयोग करने वालों में सबसे आगे सीआरपीएफ आता है।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF)उस विशाल वृक्ष की भांति है जो देश के प्रत्येक कोने को अपनी सुरक्षा रूपी छाया प्रदान करता है। देश के राज्यों की पुलिस को सहयोग प्रदान करना CRPF की प्राथमिकता है। यह सैन्य संगठन किसी भी आतंकी गतिविधि, दंगे और आपदाओं से शीघ्रता से निपटने में सक्षम होता है। अतः ऐसी विषम परिस्थितियों में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF)के जवानों को बुलाया जाता है। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों को विशेष व्यक्ति की सुरक्षा में भी तैनात किया जाता है। देशभर में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल(CRPF )जवानों के केंद्र स्थापित  है जिसके परिणाम स्वरूप किसी भी आपातकाल की स्थिति में यह जवान भारत के किसी भी कोने में कम से कम समय में पहुंचकर अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं।

प्राकृतिक आपदाओं से बचाव व राहत कार्य, हवाई अड्डा, सरकारी भवनों, पावर हाउस, दूरदर्शन केंद्र,राज्यपाल व मुख्यमंत्री के आवासों आदि महत्वपूर्ण स्थानों की सुरक्षा में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल(CRPF )के जवान ही तैनात रहते हैं।

 

देश के एकीकरण में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का योगदान(Contribution of CRPF in Unification of Country)

स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात जब काठियावाड़ और जूनागढ़ की रियासतों ने भारत में शामिल होने से मना कर दिया तब CRPF ने इन क्षेत्रों का भारत में विलय कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

विदेशों में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की भूमिका(Role of CRPF in Foreign Country)

भारतीय शांति सेना के साथ केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की 13 कंपनियों ने श्रीलंका में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसके अतिरिक्त संयुक्त राष्ट्र शांति सेना के एक अंग के तौर पर केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF ने सोमालिया, नामीबिया, हैती और मालदीव जैसे देशों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल द्वारा चीनी आक्रमण को किया गया विफल

चीनी सैनिकों ने जब 21 अक्टूबर 1959 को लद्दाख के हॉट स्प्रिंग पर हमला किया था उस समय केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की टुकड़ी वहां गश्त कर रही थी। और उसने इस हमले को विफल कर दिया था। इस हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल(CRPF )के 10 जवान शहीद हो गए थे, जिनकी याद में प्रत्येक वर्ष 21 अक्टूबर को पुलिस स्मृति दिवस मनाया जाता है।

कौन है सीआरपीएफ के वर्तमान महानिदेशक(Who is Director General of CRPF) ?

सीआरपीएफ के वर्तमान महानिदेशक सुजॉय लाल थाओसेन (Sujoy Lal Thaosen)हैं इनका कार्यकाल 30 नवंबर 2023 तक है।
केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का मुख्यालय कहां स्थित है(Where is the Head Quarter of CRPF) ?
केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF)का मुख्यालय दिल्ली में स्थित है

भारत में कितने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल हैं(How many CRPF in India) ?

भारत में लगभग 1200 कांस्टेबलों वाली 243 बटालियन है। जिसमें 204 कार्यकारी बटालियन, 6 महिला बटालियन, 15 आरएएफ बटालियन, 10कोबरा बटालियन, 5 सिग्नल बटालियन, और एक स्पेशल ड्यूटी ग्रुप व एक पार्लियामेंट ड्यूटी ग्रुप शामिल है।