World Laughter Day 2023 : कब और क्यों मनाया जाता है विश्व हास्य दिवस ?

विश्व हास्य दिवस || World Laughter Day 2023 || 7 May || World laughter Day in Hindi

कब मनाया जाता है विश्व हास्य दिवस ?

हंसना स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभदायक है। हंसना सभी के शारीरिक व मानसिक विकास में अत्यंत सहायक है। मनुष्य एकमात्र ऐसा प्राणी है जिससे ईश्वर ने हंसने का गुण प्रदान किया है। हंसने का हमारे जीवन में क्या महत्व है? तथा हंसी हमारे स्वास्थ्य को किस तरह प्रभावित करती है? इसी उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष मई माह के प्रथम रविवार को विश्व हास्य दिवस मनाया जाता है। वर्ष 2023 में विश्व हास्य दिवस 7 मई को है क्योंकि मई का पहला रविवार 7 मई को पड़ रहा है।

World Laughter Day 2023_Janpanchayat Hindi Blogs

विश्व हास्य दिवस || World Laughter Day 2023 || 7 May || World laughter Day in Hindi || Special Days In May || Hindi Blogs

कब मनाया जाता है विश्व हास्य दिवस(When is World Laughter Day Celebrated)

हंसना स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभदायक है। हंसना सभी के शारीरिक व मानसिक विकास में अत्यंत सहायक है। मनुष्य एकमात्र ऐसा प्राणी है जिससे ईश्वर ने हंसने का गुण प्रदान किया है। हंसने का हमारे जीवन में क्या महत्व है? तथा हंसी हमारे स्वास्थ्य को किस तरह प्रभावित करती है? इसी उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष मई माह के प्रथम रविवार को विश्व हास्य दिवस (World Laughter Day ) मनाया जाता है। वर्ष 2023 में विश्व हास्य दिवस 7 मई को है क्योंकि मई का पहला रविवार 7 मई को पड़ रहा है।

क्यों मनाया जाता है विश्व हास्य दिवस (Why is World Laughter Day Celebrated) ?

हंसना प्रत्येक व्यक्ति के शारीरिक एवं मानसिक विकास में सहायक है। मनोवैज्ञानिक प्रयोग से भी स्पष्ट हुआ है कि जो बच्चे अधिक हंसते हैं वह बुद्धिमान होते हैं। आज जब संपूर्ण विश्व में प्रत्येक व्यक्ति इतना व्यस्त हो गया है कि उसे दूसरों के साथ बैठकर हंसते या बात करने तक का समय नहीं है, जब अधिकांश विश्व आतंकवाद के भय से सहमा हुआ है। ऐसे समय में विश्व हास्य दिवस (World Laughter Day) मनाना अत्यंत आवश्यक है। विश्व हास्य दिवस के बहाने ही व्यक्ति कम से कम एक दिन हंस सकता है और यह एक दिन की हंसी भी हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक है। आज जब प्रत्येक व्यक्ति अंतर्द्वंद से जूझ रहा है ऐसे समय में विश्व हास्य दिवस की महत्ता और भी बढ़ जाती है क्योंकि हंसी सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती है, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करती है, दर्द कम करती है और तनाव को दूर करती है। अधिक हंसने वाले व्यक्ति की उम्र भी बढ़ जाती है। इसीलिए हंसी के महत्व को दर्शाने के लिए विश्व हास्य दिवस मनाया जाता है।

विश्व हास्य दिवस मनाने की शुरुआत कब हुई

विश्व हास्य दिवस (World Laughter Day) पहली बार 10 मई 1998 को मुंबई में मनाया गया था। डॉ. मदन कटारिया, जो कि ‘ विश्व हास्य योग आंदोलन’ के संस्थापक हैं, ने हास्य दिवस मनाने की शुरुआत की थी। डॉक्टर मदन कटारिया एक चिकित्सक है जो मानते हैं कि किसी व्यक्ति के चेहरे के भाव उनकी भावनाओं पर प्रभाव डालते हैं। विश्व हास्य दिवस की लोकप्रियता ‘ हास्य योग आंदोलन’ के माध्यम से पूरे विश्व में फैल गई है। डॉक्टर कटारिया ने 1995 में हास्य योग आंदोलन की स्थापना की और जाना कि हंसी और मुस्कान का शरीर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसीलिए उन्होंने इस संदेश को फैलाने में मदद करने के लिए विश्व हास्य दिवस की शुरुआत की। संसार में शांति की स्थापना, मानव में सद्भाव और भाईचारे के उद्देश्य से विश्व हास्य दिवस मनाया जाता है।

हंसना क्यों आवश्यक है (Why the laughing is necessary)

कहा जाता है कि-


” जिंदगी जिंदादिली का नाम है, मुर्दा दिल क्या खाक जिया करते हैं “


इसलिए हंसना बहुत आवश्यक है। यदि हमारे पास दो विकल्प हो, पहला विकल्प ऐसे लोगों के साथ रहने का जो गंभीर व बोझिल तथा तनाव से भरे हो, और दूसरा ऐसे लोगों के साथ रहने का जो हंसमुख, मिलनसार और जिंदादिल प्रकृति के हो, तो जाहिर सी बात है कि हम ऐसे लोगों के साथ रहना ही पसंद करेंगे जो जिंदादिल हंसमुख हो तथा भारी से भारी माहौल को भी हल्का कर दे। हंसना एक मानवी लक्षण है। ईश्वर की सृष्टि में हंसने की नेमत सिर्फ मानव को ही प्राप्त है।और कोई भी जीव हंसना नहीं जानता है, इसलिए स्वस्थ्य एवं सुखी जीवन के लिए हंसना अत्यंत आवश्यक है। यदि हम हंसते, मुस्कुराते हुए भोजन करते हैं तो हम यह अनुभव करते हैं कि भोजन अधिक स्वादिष्ट लग रहा है। इसलिए स्वस्थ रहने के लिए सदैव हंसते मुस्कुराते रहना चाहिए। 

हंसने के क्या लाभ है(What is the benefits of Laughing) ?

हंसने के कई स्वास्थ्य लाभ है जैसे-

  • हंसने से ऑक्सीजन का संचार अधिक होता है और दूषित वायु बाहर निकलती है।
  • हंसने से अनेक बीमारियां अपने आप ठीक हो जाती हैं। मनोवैज्ञानिक प्रयोग से भी यह सिद्ध हुआ है कि अधिक हंसने वाले बच्चे अधिक बुद्धिमान होते हैं।
    *हंसना शारीरिक और मानसिक विकास में अत्यंत सहायक है।
    हास्य में व्यक्ति को ऊर्जावान और संसार को शांतिपूर्ण बनाने के सभी तत्व विद्यमान है क्योंकि हास्य सकारात्मक और शक्तिशाली भावना है।
  • मानव शरीर में पेट और छाती के बीच एक डायफ्रॉम होता है जो हंसते समय धुकधुकी का कार्य करता है। इसके परिणाम स्वरुप पेट,फेफड़े और यकृत की मालिश हो जाती है।
  • कहकहा लगा कर जोर से हंसने से शरीर में प्रत्येक अंग को गति मिलती है जिसके परिणाम स्वरुप शरीर में मौजूद एंडोफ्राइन ग्रंथि (हार्मोन दत्त प्रणाली) सुचारू रूप से चलने लगती है। जो कई रोगों को दूर करने में सहायक है।
  • दिन भर में 10-15 मिनट तक हंसने से 40 कैलोरी तक बर्न की जा सकती है।
  • प्रत्येक दिन नियम से खुलकर हंसने से शरीर में रक्त संचार की गति बढ़ जाती है साथ ही साथ पाचनतंत्र भी कुशलता पूर्वक कार्य करता है।

हंसी के विषय में विद्वानों के विचार

एक प्रसन्नचित्त व्यक्ति की आयु लंबी होती है, इस बात की पुष्टि ‘ थैकर एवं शेक्सपियर’ जैसे विचारको ने भी की है चेहरे पर खिलखिलाती प्रसन्नता, मनुष्य की आत्मा की संतुष्टि, शारीरिक स्वच्छता व बुद्धि की स्थिरता को नापने का एक पैमाना है। आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी और तनावपूर्ण वातावरण में व्यक्ति अपनी हंसी और मुस्कुराहट को भूलता जा रहा है परिणाम स्वरूप आज का मानव अनेक तनावजन्य बीमारियों जैसे- डायबिटीज, उच्च रक्तचाप, डिप्रेशन, माइग्रेन, पागलपन, हिस्टीरिया आदि बीमारियों को आमंत्रित कर रहा है।

हास्य विश्व दिवस का उद्देश्य (Objectives of World Laughter Day)

आज प्रत्येक व्यक्ति के अंदर आत्मद्वंद मचा हुआ है हाल के कुछ वर्षों से पहले विश्व में इतनी अशांति कभी नहीं देखी गई। अधिकांश विश्व आतंकवाद से भयभीत है। महामारियों से ग्रसित हो रहा है। ऐसे समय में हास्य दिवस की प्रासंगिकता बढ़ जाती है। संपूर्ण विश्व में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करने तथा व्यक्ति को ऊर्जावान बनाने एवं बीमारियों से मुक्त करने के उद्देश्य से विश्व हास्य दिवस मनाया जाता है। जब व्यक्ति सामूहिक रूप से हंसाता है तो उस हंसी से सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है जो नकारात्मक ऊर्जा को समाप्त करती है।

कैसे मनाया जाता है विश्वास हास्य दिवस (How is World Laughter Day Celebrated) ?

विश्व हास्य दिवस के दिन अपने दोस्त रिश्तेदारों के साथ एकत्रित होकर एक दूसरे को चुटकुले सुनाते हैं और हंसाने का प्रयास करते हैं। इस दिन लोग जोर से कहकहा लगाते हैं और हंसने का नाटक करते हैं। इससे वास्तव में आपको हंसी आ सकती है। इस दिन ‘हास्य क्लब का भी प्रचार किया जाता है। हास्य क्लब ऐसे व्यक्तियों का समूह होता है जो स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देने के लिए जानबूझकर हंसने के तरीकों का उपयोग करते हैं।
इस दिन को केवल हंसने के उद्देश्य से सार्वजनिक स्थलों पर लोगों की बड़ी भीड़ एकत्रित की जाती है। हम स्थानीय हास्य क्लब अभियान में भाग ले सकते हैं। परिवार और पड़ोस के लोगों से हंसी मजाक की बातें साझा कर सकते हैं अथवा अपने परिवार के साथ एक कॉमेडी फिल्म देख सकते हैं। इस दिन विश्व के कई देशों में रैलियां, गोष्ठियों एवं सम्मेलन आयोजित किए जाते हैं। आज पूरे विश्व में 6000 से भी अधिक हास्य क्लब है।

मानवता का समन्वय है हास्य

हंसी एक ऐसी सार्वभौमिक भाषा है जो धर्म, जाति, रंग, लिंग से परे रह कर मानवता को समन्वित करने की क्षमता रखती है। यह सोचना काल्पनिक अवश्य है लेकिन लोगों में यह अटूट विश्वास है की हंसी विश्व को एकजुट कर सकती है। यह विभिन्न समुदायों को जोड़कर नए विश्व का निर्माण कर सकती है। खिलखिला कर हंसने से मानव की आत्मा खिल उठती है और इससे जो आनंद प्राप्त होता है उसकी झलक चेहरे पर भी साफ दिखाई देती है। हंसी जीवन का प्रभात है, शीतकाल की मधुर धूप और गर्मी की तपती दोपहरी में शीतल छाया है। हास्य निराशा एवं चिंता का अचूक उपचार है और दुखों के लिए रामबाण औषधि है। हास्य पीड़ा का शत्रु है।