June 25, 2024

World Post Day 2023: कब हुई थी विश्व डाक दिवस की शुरुआत, जानिए इसके इतिहास और थीम के बारे में

विश्व डाक दिवस (World Post Day 2023) 9 अक्टूबर, 2023 : कब हुई थी विश्व डाक दिवस की शुरुआत?जानिए इसके इतिहास और थीम के बारे में-

डाक सेवाओं की उपयोगिता और इसकी संभावनाओं को देखते हुए प्रत्येक वर्ष 9 अक्टूबर को विश्व डाक दिवस मनाया जाता है। विश्व डाक दिवस यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन(Universal Postal Union)की ओर से मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य है ग्राहकों के बीच डाक विभाग के उत्पादन के बारे में जानकारी देना और जागरूक करना।
आज मोबाइल फोन और इंटरनेट के दौर में लोग डाक सेवा को भूल से गए हैं लेकिन आज भी जहां मोबाइल या इंटरनेट नहीं पहुंच पहुंच पाता वहां डाक पहुंच जाती है। डाक की इसी उपयोगिता और महत्व के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए प्रत्येक वर्ष 9 अक्टूबर को विश्व डाक दिवस(World Post Day)मनाया जाता है।

World Post Day 2023 || विश्व डाक दिवस 2023 || || 9 October 2023

World Post Day 2023_Post Day In Hindi

कब हुई थी विश्व डाक दिवस की शुरुआत?जानिए इसके इतिहास और थीम के बारे में

डाक सेवाओं की उपयोगिता और इसकी संभावनाओं को देखते हुए प्रत्येक वर्ष 9 अक्टूबर को विश्व डाक दिवस मनाया जाता है। विश्व डाक दिवस यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन(Universal Postal Union)की ओर से मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य है ग्राहकों के बीच डाक विभाग के उत्पादन के बारे में जानकारी देना और जागरूक करना।

आज मोबाइल फोन और इंटरनेट के दौर में लोग डाक सेवा को भूल से गए हैं लेकिन आज भी जहां मोबाइल या इंटरनेट नहीं पहुंच  पहुंच पाता वहां डाक पहुंच जाती है। डाक की इसी उपयोगिता और महत्व के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए प्रत्येक वर्ष 9 अक्टूबर को विश्व डाक दिवस(World Post Day)मनाया जाता है।

विश्व डाक दिवस का इतिहास (History of World Post Day)

जनरल पोस्ट यूनियन के गठन हेतु 9 अक्टूबर 1874 को सभी देशों के बीच पत्रों का आवागमन सहज बनाने के लिए 22 देशों ने बर्न, स्वीटजरलैंड में एक संधि पर हस्ताक्षर किया था। यह संधि 1 जुलाई 1875 को अस्तित्व में आई। 1 अप्रैल 1879 को जनरल पोस्ट यूनियन का नाम बदलकर यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन (Universal Postal Union,सार्वभौमिक डाक संघ) कर दिया गया। यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन की स्थापना वैश्विक क्रांति की शुरुआत थी। वर्ष 1969 में जापान के टोकियो में 9 अक्टूबर को विश्व डाक दिवस के रूप में घोषित किया गया। तब से डाक सेवाओं के योगदान को रेखांकित करने के लिए प्रत्येक वर्ष 9 अक्टूबर को विश्व डाक दिवस(World Post Day)मनाया जाता है।

Buy this best budget friendly 5G Mobile : Redmi 12 5G on Amazon

भारत में डाक सेवा

भारत में डाक सेवाओं का इतिहास बहुत पुराना है। एक विभाग के रूप में भारत में डाक की स्थापना एक अक्टूबर 1854 को लॉर्ड डलहौजी के काल में हुई थी। 1 जुलाई 1876 को यूनिवर्सल पोस्टल यूनियन का सदस्य बनने वाला भारत प्रथम एशियाई देश था। भारत में एक तरफ जहां डाक विभाग सार्वभौमिक सेवा दायित्व के तहत सब्सिडी आधारित विभिन्न डाक सेवाएं देता है वहीं दूसरी ओर पहाड़ी जनजातीय व दूरस्थ अंडमान व निकोबार दीप समूह जैसे क्षेत्रों में भी उसी दर पर डाक सेवाएं उपलब्ध करा रहा है।

भारतीय समाज में डाक विभाग की एक अहम भूमिका रही है जिसे भुला पाना नामुमकिन है। हरे रंग के अंतर्देशीय पत्र कभी भारतीय समाज के लिए संदेश वाहक के समान होते थे। कागज के यह टुकड़े ना जाने कितने संवेदनाओं को समेटे एक शहर से दूसरे शहर जाते थे। जिन्हें डाकिए सही स्थान पर पहुंचाते थे। डाकिया हर सुख- दुख में खबरें पहुंचाता था। डाकिया भारतीय समाज के प्रत्येक परिवार में एक सदस्य की तरह होता था, जो गर्मी, सर्दी, बरसात किसी भी मौसम में अपनी सेवाएं नहीं रोकता था।

आज मोबाइल और इंटरनेट के दौर में भी डाक विभाग खुद को तकनीक के अनुसार बदल तो रहा है लेकिन जो स्वर्णिम युग डाक ने देखा है। शायद ही आधुनिक तकनीक और मोबाइल यह युग देख पाएंगे। आज का डाक विभाग ई पोस्ट, स्पीड पोस्ट और अन्य सेवाओं के साथ हाईटेक हो रहा है।

भारतीय डाक से जुड़ी कुछ रोचक जानकारिया

  • भारत में पहला डाकघर ईस्ट इंडिया कंपनी ने 1774 को कोलकाता में स्थापित किया था।
  • 1864 में कोलकाता में लैंड मार्क जनरल पोस्ट ऑफिस बनाया गया।
  • भारत में 1880 में मनी ऑर्डर सिस्टम शुरू हुआ।
  • 1986 में भारत में स्पीड पोस्ट की शुरुआत हुई।
  • 18 फरवरी 1911 को विश्व की पहली आधिकारिक एयर मेल उड़ान भारत में हुई थी।
  • आजादी के समय भारत में 23,344 पोस्ट ऑफिस थे।
  • स्वतंत्र भारत में पहला आधिकारिक डाक टिकट 21 नवंबर 1947 को जारी किया गया था, जिसमें ‘जय हिंद’ के साथ भारतीय ध्वज को दर्शाया गया था।
  • भारत विश्व का सबसे बड़ा पोस्ट नेटवर्क है।

भारत में आयोजित होने वाला डाक सप्ताह

भारतीय डाक विभाग 9 से 14 अक्टूबर के बीच विश्व डाक सप्ताह मानता है। सप्ताह के प्रत्येक दिन अलग-अलग दिवस मनाया जाते हैं। जैसे- 

     10 अक्टूबर- सेविंग बैंक दिवस

      11 अक्टूबर- मेल दिवस 

     12 अक्टूबर- डाक टिकट संग्रह दिवस 

     13 अक्टूबर- व्यापार दिवस

      14 अक्टूबर- बीमा दिवस

सेविंग दिवस पर ग्राहकों को डाक बचत योजना के बारे में विस्तृत जानकारी दी जाती है।

डाक सप्ताह दिवस का उद्देश्य ग्राहकों के बीच डाक विभाग के उत्पादन के बारे में जानकारी देना उन्हें जागरूक करना और डाकघरों के बीच सामंजस्य स्थापित करना है। डाक दिवस पर बेहतर कार्य करने वाले कर्मचारियों को पुरस्कृत भी किया जाता है।

विश्व डाक दिवस की थीम(Theme of World Post Day)

प्रत्येक वर्ष विश्व डाक दिवस(World Post Day)एक थीम के तहत मनाया जाता है। वर्ष 2023 के विश्व डाक दिवस की थीम है,

      “एक साथ विश्वास के लिए: एक सुरक्षित और जुड़े भविष्य के लिए सहयोग।”

     (Together for Trust:Collaborating for a Safe and Connected Future)

 

About World Post Day On Wikipedia : https://en.wikipedia.org/wiki/World_Post_Day

Air Show in Prayagraj Cit(Indian Air Force Day 2023)