जीत की हैट्रिक लगाने के साथ ही पार्टी के भरोसे को कायम रखने की जिम्मेदारी: लोकसभा चुनाव 2024

image 1 9

2024 के लोकसभा चुनाव में उत्तर- पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी तीसरी बार चुनाव मैदान में उतरे हैं। मनोज तिवारी अकेले ऐसे उम्मीदवार हैं, जिनकी उम्मीदवारी इस चुनाव में भी बरकरार है। दिल्ली की सात लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही भाजपा ने सभी 6 सांसदों टिकट काट दिया है। केवल मनोज तिवारी को तीसरी बार टिकट दिया गया है। ऐसे में एक तरफ जहां पार्टी द्वारा जताए गए भरोसे की साख बचाने की जिम्मेदारी मनोज तिवारी पर है। वही जीत की हैट्रिक लगाने में भी जुटे हैं।

उड़ीसा के संबलपुर सीट से भाजपा उम्मीदवार धर्मेंद्र प्रधान को भाजपा को सत्ता में लाने की चुनौती

कौन हैं मनोज तिवारी (Who is Manoj Tiwari) ?

1 फरवरी 1971 को बिहार के कैमूर जिले के छोटे से गांव अतरवलिया में जन्मे मनोज तिवारी राजनीति में आने से पहले एक अभिनेता, गायक और संगीतकार थे। भोजपुरी फिल्मों को नया आयाम देने वाले मनोज तिवारी ने 2004 से 2015 तक 40 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया है। उनकी पहली फिल्म एक जबरदस्त ही हिट थी और भोजपुरी सिनेमा के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ थी।

क्या तीन बार के सांसद इंद्रजीत राव को टक्कर दे पाएंगे राज बब्बर ?: Lok Sabha Election Phase 5 Voting

राजनीतिक सफर

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) से मनोज तिवारी ने कला में स्नातक और परास्नातक किया। पढ़ाई के बाद भोजपुरी फिल्मों में अभिनय और गायकी में अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले मनोज तिवारी का राजनीति में प्रवेश 2009 में हुआ। 2009 में वे समाजवादी पार्टी में शामिल हो कर राजनीति में प्रवेश किया और गोरखपुर से सपा के टिकट पर चुनाव लड़े। लेकिन गोरखपुर से योगी आदित्यनाथ से हार का सामना करना पड़ा। 2011 में मनोज तिवारी बीजेपी में शामिल हो गए। 2014 के लोकसभा चुनाव में वे भाजपा उम्मीदवार के तौर पर उत्तर- पूर्वी दिल्ली से पहली बार चुनाव लड़े और जीत हासिल की।

2014 की जीत के बाद मनोज तिवारी ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। 2019 में भी मनोज तिवारी को दोबारा चुनाव मैदान में उतारा गया और इस बार मनोज तिवारी ने न सिर्फ जीत दर्ज की बल्कि उनके जीत का अंतर भी बढ़ गया। 2019 के लोकसभा चुनाव में मनोज तिवारी ने कांग्रेस उम्मीदवार और पूर्व सीएम शीला दीक्षित को 3.63 लाख से ज्यादा वोटो से हराया। 2014 से 2019 के बीच पार्टी ने उन्हें संगठन की भी जिम्मेदारी दी। मनोज तिवारी दिल्ली प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष भी बनाए गए।

इस सीट पर कांग्रेस – भाजपा में सीधा मुकाबला: Amethi Lok Sabha Election Phase 5 Voting

मनोज तिवारी का मुकाबला कन्हैया कुमार से

दिल्ली की उत्तर- पूर्वी सीट से भाजपा उम्मीदवार मनोज तिवारी के खिलाफ इंडिया गठबंधन ने कन्हैया कुमार को मैदान में उतारा है। कन्हैया कुमार भी कैमूर जिले से आते हैं। ऐसे में दो पूर्वांचली प्रत्याशियों के बीच मुकाबला रोचक होने की संभावना है। इस बार मनोज तिवारी के सामने चुनौती आसान नहीं है क्योंकि कन्हैया कुमार युवा होने के साथ अच्छे वक्ता भी हैं और एक खास वर्ग उनको पसंद करने वाला है। वह युवाओं के बीच खासे लोकप्रिय हैं।

सारण सीट पर राजद और भाजपा के बीच चुनावी संग्राम: Lok Sabha Election 2024 Phase 5 Voting

उत्तर- पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट पर कांटे की टक्कर

उत्तर पूर्वी दिल्ली सीट पर कांग्रेस व आम आदमी पार्टी ने एक उम्मीदवार कन्हैया कुमार को प्रत्याशी बनाकर मनोज तिवारी के साथ ही पार्टी की भी चिंता बढ़ा दी है। इस सीट पर एक और पूर्वांचली उम्मीदवार होने के कारण कांटे की टक्कर होने की उम्मीद है। हालांकि मनोज तिवारी दिल्ली में पूर्वांचलियों के लिए बड़ा चेहरा हैं।मनोज तिवारी के सहारे पूरी दिल्ली में केवल पूर्वांचलियों का वोट पाने का सियासी समीकरण भाजपा ने बैठाया है। हालांकि 2014 के आंकड़ों के अनुसार आम आदमी पार्टी व कांग्रेस का वोट मिला दे तब भी भाजपा ही आगे दिखती है।

अब देखने वाली बात यह होगी कि मनोज तिवारी जीत की हैट्रिक जमा कर पार्टी के भरोसे को कायम रख पाते हैं या नहीं।