June 25, 2024

National Anti-Terrorism Day : कब और क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस ?

National Anti-Terrorism Day || National Anti-Terrorism Day 2023 || About Anti-Terrorism Day ||आतंकवाद विरोधी दिवस 2023 || Hindi Blogs || Janpanchayat Hindi Blogs ||| 21 May || Special Days In may

संपूर्ण भारत में प्रत्येक वर्ष 21 मई को राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस मनाया जाता है। आज वैश्विक समस्याओं में सबसे बड़ी समस्या आतंकवाद की है। आतंकवाद के समाज विरोधी कृत्यों से लोगों को अवगत कराना इस दिन का मुख्य उद्देश्य है। आतंकवाद की वजह से विश्व में हजारों लाखों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। भारत समेत विश्व के कई देश आतंकवाद की समस्या से जूझ रहे हैं। इन देशों को आतंकवाद के कारण काफी नुकसान हो रहा है। 21 मई का दिन आतंकवाद की समस्या से निपटने के लिए समर्पित है।

National Anti-Terrorism Day 2023_Janpanchayat Hindi blogs

National Anti-Terrorism Day || National Anti-Terrorism Day 2023 || About Anti-Terrorism Day ||आतंकवाद विरोधी दिवस 2023 || Hindi Blogs || Janpanchayat Hindi Blogs ||| 21 May || Special Days In May

कब मनाया जाता है राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस ?(When,Anti-Terrorism Day is Celebrated)

संपूर्ण भारत में प्रत्येक वर्ष 21 मई को राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस मनाया जाता है। आज वैश्विक समस्याओं में सबसे बड़ी समस्या आतंकवाद की है। आतंकवाद के समाज विरोधी कृत्यों से लोगों को अवगत कराना इस दिन का मुख्य उद्देश्य है। आतंकवाद की वजह से विश्व में हजारों लाखों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। भारत समेत विश्व के कई देश आतंकवाद की समस्या से जूझ रहे हैं। इन देशों को आतंकवाद के कारण काफी नुकसान हो रहा है। 21 मई का दिन आतंकवाद की समस्या से निपटने के लिए समर्पित है।

क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस ? (Why is National Anti-Terrorism Day celebrated?)

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर राष्ट्रीय आतंक विरोधी दिवस मनाया जाता है। क्योंकि 21 मई 1991को ही पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में चुनाव प्रचार के दौरान हत्या कर दी गई थी। श्रीपेरंबदूर में राजीव गांधी चुनाव प्रचार के दौरान एक आम सभा को संबोधित करने जा रहे थे और उनका स्वागत करने के लिए जब उनके प्रशंसक उन्हें फूलों की माला पहना रहे थे, उसी समय मौके का फायदा उठाते हुए लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (LITTE) के आतंकवादियों ने इस घटना को अंजाम दिया। लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम लिट्टे की महिला सदस्य धनु ने एक आत्मघाती विस्फोट को अंजाम दिया। इस विस्फोट में राजीव गांधी की मृत्यु हो गई थी तभी से 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस मनाया जाता है।
राजीव गांधी की हत्या के बाद वीपी सिंह की सरकार ने 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया था और तभी से ‘ राजीव गांधी बलिदान दिवस’ को आतंकवाद विरोधी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

कब मनाया जाता है राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस ?(When,Anti-Terrorism Day is Celebrated)

संपूर्ण भारत में प्रत्येक वर्ष 21 मई को राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस मनाया जाता है। आज वैश्विक समस्याओं में सबसे बड़ी समस्या आतंकवाद की है। आतंकवाद के समाज विरोधी कृत्यों से लोगों को अवगत कराना इस दिन का मुख्य उद्देश्य है। आतंकवाद की वजह से विश्व में हजारों लाखों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। भारत समेत विश्व के कई देश आतंकवाद की समस्या से जूझ रहे हैं। इन देशों को आतंकवाद के कारण काफी नुकसान हो रहा है। 21 मई का दिन आतंकवाद की समस्या से निपटने के लिए समर्पित है।

कैसे मनाया जाता है राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस (How,National Anti Terrorism Day is Celebrated) ?

राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस के अवसर पर आतंकवाद और उसके दुष्प्रभाव को बताने के लिए बड़े स्तर पर शिक्षा कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। कालेजों और विश्वविद्यालयों में आतंकवाद और हिंसा के खतरों पर डिबेट या चर्चा का आयोजन किया जाता है। आतंकवाद के प्रभाव के बारे में लोगों को सुनिश्चित करने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकार रैलियों और परेडो का आयोजन करती है। स्कूलों और कालेजों में दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गांधी के लिए 2 मिनट का मौन रखा जाता है तथा उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है।
आतंकवाद आतंकवादियों के खूंखार कृतियों द्वारा लोगों के बीच मौत का भय और आतंक का माहौल पैदा करने का एक कार्य है। आतंकवाद मानव के अधिकारों का शत्रु है
अमेरिका में ‘ वर्ल्ड ट्रेड सेंटर’ पर हमला भी आतंकवादियों का कुत्सित कार्य था एवं मुंबई में 26/11 के हमले को भी हम भूल नहीं सकते। आतंकवादियों के इस जघन्य कृत्य के प्रति आतंकवाद विरोधी दिवस क्रोध व्यक्त करता है।

राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस का उद्देश्य (Objectives of National Terrorism Day)

आतंकवाद के कारण आम जनता को हो रही परेशानियों, राष्ट्रीय हितों पर आतंकवाद के प्रतिकूल प्रभाव एवं आतंकी हिंसा से दूर रखना आतंकवाद विरोधी दिवस का मुख्य उद्देश्य है। आतंकी गुट कैसे आतंकी हमलों को अंजाम देने की योजना बनाते हैं उसके विषय में लोगों को जागरूक करने के लिए यह दिन मनाया जाता है। लोगों के बीच एकता को बढ़ावा देना और शांति एवं मानवता का संदेश प्रसारित करना इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य है। इसके अतिरिक्त देश में आतंकवाद हिंसा और आतंकवाद के संपूर्ण देश पर पड़ने वाले खतरनाक प्रभाव के बारे में जागरूकता पैदा करना युवाओं को शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान करना जिससे वे आतंकी गुटों में शामिल ना हो इसके लिए भी आतंकवाद विरोधी दिवस मनाना महत्वपूर्ण है।

राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस की शपथ (Oath of National Terrorism Day)

आतंकवाद विरोधी दिवस के दिन सभी सरकारी कार्यालयों और सार्वजनिक संस्थानों में आतंकवाद विरोधी प्रतिज्ञा ली जाती है आतंकवाद के विरुद्ध देशवासियों को एक शपथ दिलाई जाती है-
“हम भारतवासी अपने देश की अहिंसा और सहनशीलता की परंपरा में दृढ़ विश्वास रखते हैं और निष्ठा पूर्वक शपथ लेते हैं कि हम सभी प्रकार के आतंकवाद और हिंसा का डटकर विरोध करेंगे। हम मानव जाति के सभी वर्गों के बीच शांति सामाजिक सद्भाव और सूझबूझ कायम रखने और मानव जीवन के मूल्यों को खतरा पहुंचाने वाली विघटनकारी शक्तियों से लड़ने की शपथ लेते हैं।”