World Embryologists Day : विश्व भ्रूण विज्ञानी दिवस कब और क्यों मनाते हैं ?

विश्व भ्रूण विज्ञानी दिवस || World Embryologist Day || 25 July 2023
विश्व भ्रूण विज्ञानी दिवस (World Embryologist Day) प्रत्येक वर्ष 25 जुलाई को मनाया जाता है। वर्षों के अध्ययन और खोज के पश्चात चिकित्सा विज्ञान ने 25 जुलाई को बांझपन का उपचार खोज निकाला था। 25 जुलाई को इंग्लैंड के आल्डहैम शहर में पहले टेस्ट ट्यूब बेबी का जन्म हुआ था। इन विट्रो फर्टिलाइजेशन के जरिए मां ने अपने बच्चे को जन्म दिया था।

World Embryologists Day 2023_Janpanchayat hindi blogs

विश्व भ्रूण विज्ञानी दिवस || World Embryologist Day || 25 July 2023

World Embryologist Day 2023 : विश्व भ्रूण विज्ञानी दिवस (World Embryologist Day) प्रत्येक वर्ष 25 जुलाई को मनाया जाता है। वर्षों के अध्ययन और खोज के पश्चात चिकित्सा विज्ञान ने 25 जुलाई को बांझपन का उपचार खोज निकाला था। 25 जुलाई को इंग्लैंड के आल्डहैम शहर में पहले टेस्ट ट्यूब बेबी का जन्म हुआ था। इन विट्रो फर्टिलाइजेशन के जरिए मां ने अपने बच्चे को जन्म दिया था।
मां बनना एक सुखद अनुभूति है। एक स्त्री तभी पूर्णता को प्राप्त होती है जब वह मां बनती है। या यूं कहें कि स्त्री का मां बनना ईश्वर का वरदान है लेकिन कुछ स्त्रियां ऐसी भी होती हैं, जो शारीरिक अक्षमता के कारण मां बनने की इस सुखद अनुभूति से वंचित रह जाती हैं। मां न बन पाने पर उन्हें बांझपन की असहनीय पीड़ा सहन करनी पड़ती है। लेकिन विज्ञान की खोज ने स्त्रियों के इस पीड़ा का इलाज भी ढूंढ निकाला है। 25 जुलाई भी ऐसा ही दिन है जब चिकित्सा विज्ञान ने बांझपन का इलाज ढूंढ निकाला था। 25 जुलाई 1978 को इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF) के माध्यम से बच्चे ने जन्म लिया,जिसने उन महिलाओं में एक उम्मीद की किरण जगाई जो कभी मां नहीं बन सकती थी। भ्रूण विज्ञानियों के चिकित्सा क्षेत्र में इस योगदान के कारण ही आज बांझपन लाइलाज नहीं रह गया है।

विश्व भ्रूण विज्ञानी दिवस का इतिहास(History Of World Embryologist Day)

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (vitro fertilization) की प्रक्रिया लेस्ली ब्राउन ने डॉक्टर पेट्रिक स्टेप्टो और डॉ .रॉबर्ट एडवर्ड्स की मदद से 10 नवंबर 1977 में प्रारंभ किया था। 1978 में 25 जुलाई को लुईस जॉय ब्राउन नाम के बच्चे ने जन्म लिया था। इसीलिए 25 जुलाई को विश्व भ्रूण विज्ञानी विज्ञानी (World Embryologist Day) के रूप में मनाया जाता है। 25 जुलाई का दिन उन भ्रूण विज्ञानियों को समर्पित है, जिन्होंने उम्मीद खो चुके दंपतियों में एक आशा की किरण जगाने का काम किया है।

भ्रूण विज्ञानी कौन है (Who is Embryologist) ?

An embryologist is a highly trained professional who has studied embryology. They have a special skillset in the field of embryology and can observe any new biological developments in that area. Embryologists take care of the embryo from the time of egg retrieval to its transfer into the woman’s uterus for a positive pregnancy. They have remarkable abilities to understand the miracles of growth and development.

क्या है भ्रूण विज्ञानी की जिम्मेदारियां (What are the Responsibilities of Embryologist) ?

प्रजनन टीम के एक प्रमुख सदस्य के रूप में भ्रम विज्ञानी की निम्न जिम्मेदारियां होती हैं।

  • भ्रूण विज्ञानी यह सुनिश्चित करते हैं कि भ्रूण विज्ञान प्रयोगशाला भ्रूण के विकास और भंडारण के लिए एक आदर्श वातावरण हो।
  • भ्रूण के स्वस्थ विकास के लिए प्रयोगशाला का वातावरण अनुकूल बनाए रखना।
  • भ्रूण बनाने के लिए अंडों का गर्भाधान करना।
  • शुक्राणुओं, अंडे और भ्रूण को फ्रीज करना।
  • आनुवंशिक बीमारियों की जांच के लिए कुछ भ्रूणों पर लेजर बायोप्सी करना।
  • भ्रूणों की ग्रेडिंग व अवलोकन करना।

क्या है इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (What is IVF) ?

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन(IVF )प्रक्रिया कि वह जटिल श्रृंखला है जिसका उपयोग प्रजनन क्षमता में मदद करने या अनुवांशिक समस्याओं को रोकने और बच्चे के गर्भधारण में सहायता के लिए किया जाता है।

क्या है आईवीएफ की प्रक्रिया (What is Process of IVF)

आईवीएफ (IVF)सहायक प्रजनन तकनीक का सबसे प्रभावी रूप है। यह प्रक्रिया दंपति के स्वयं के अंडों और शुक्राणु का उपयोग करके की जा सकती है।
आईवीएफ (IVF)के दौरान परिपक्व अंडों को अंडाशय से एकत्र किया जाता है और प्रयोगशाला में शुक्राणु द्वारा निषेचित किया जाता है। निषेचित अंडे (भ्रूण) को गर्भाशय में स्थानांतरित कर दिया जाता है। आईवीएफ के एक पूर्ण चक्र में लगभग 3 सप्ताह का समय लगता है। कभी-कभी यह चरण अलग-अलग भागों में विभाजित हो जाता है और इस प्रक्रिया में अधिक समय लग जाता है

आईवीएफ क्यों कराया जाता है ?

जब माता-पिता को फैलोपियन ट्यूब क्षति या रुकावट, ओव्यूलेशन विकार, एंडोमेट्रियोसिस, गर्भाशय फाइब्रॉएड, कम शुक्राणु, अनुवांशिक विकार या अन्य समस्याएं होती हैं जो शिशु के गर्भाधान में बाधा उत्पन्न करती हैं तो आईवीएफ तकनीक की सहायता ली जाती है।

विश्व भ्रूण विज्ञानी दिवस का महत्व (Significance of World Embryologist Day)

विश्व भ्रूण विज्ञानी दिवस (World Embryologist Day)उन सभी भ्रूण विज्ञानियों को धन्यवाद देने के लिए मनाया जाता है जो न केवल जीवन बचाते हैं, अपितु जीवन देने वाले भी होते हैं। बांझपन के अभिशाप को झेल रही औरतों के जीवन में भ्रम विज्ञानी एक उम्मीद की किरण जगाते हैं। गर्भधारण की उम्मीदों को खो चुके दंपतियों के लिए स्वस्थ बच्चों के रूप में अद्भुत कार्य करते हैं। आज बांझपन की समस्या के लिए इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF)एक प्रमुख समाधान है। विश्व भ्रूण विज्ञानी दिवस (World Embryologist Day)वैज्ञानिकों को समर्पित है जो भ्रूण जनन के चमत्कारों का खुलासा करते हुए, जीवन को जन्म देने वाली जटिल प्रक्रियाओं की खोज करते हैं।