World Brain Tumor Day 2023: विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस मनाने की शुरुआत कब और क्यों हुई?

World Brain Tumor Day 2023 || Health & Style Blogs || Health Blogs In Hindi || Health Days In June || 08 June
प्रत्येक वर्ष 8 जून को विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस(World Brain Tumor Day) मनाया जाता है। ब्रेन ट्यूमर के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए यह दिन मनाया जाता है। चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार संपूर्ण विश्व में प्रत्येक दिन 1लाख में से 10 लोग ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor)जैसी बीमारी का शिकार होकर मरते हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य पोर्टल के अनुसार विश्व भर में प्रत्येक दिन 500 से अधिक ब्रेन ट्यूमर के मामले सामने आते हैं। ब्रेन ट्यूमर दिवस के अवसर पर विश्व के अनेक देशों में कार्यक्रम का आयोजन करके इस बीमारी के लक्षण और उसके उपचार के बारे में जानकारी प्रदान की जाती है।
आइए जानते हैं ब्रेन ट्यूमर के लक्षण एवं उपचार के विषय में-

World Brain Tumor Day 2023_Janpanchayat Hindi blogs

प्रत्येक वर्ष 8 जून को विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस(World Brain Tumor Day) मनाया जाता है। ब्रेन ट्यूमर के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए यह दिन मनाया जाता है। चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार संपूर्ण विश्व में प्रत्येक दिन 1लाख में से 10 लोग ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor)जैसी बीमारी का शिकार होकर मरते हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य पोर्टल के अनुसार विश्व भर में प्रत्येक दिन 500 से अधिक ब्रेन ट्यूमर के मामले सामने आते हैं। ब्रेन ट्यूमर दिवस के अवसर पर विश्व के अनेक देशों में कार्यक्रम का आयोजन करके इस बीमारी के लक्षण और उसके उपचार के बारे में जानकारी प्रदान की जाती है।
आइए जानते हैं ब्रेन ट्यूमर के लक्षण एवं उपचार के विषय में-

क्या है ब्रेन ट्यूमर (What is Brain Tumor)

ब्रेन के किसी हिस्से में पैदा होने वाली असमान्य कोशिकाओं की वृद्धि ब्रेन ट्यूमर के रूप में प्रकट होती है। ब्रेन ट्यूमर को ‘ मस्तिष्क कैंसर’ भी कहा जाता है। यह एक खतरनाक बीमारी है और यह बीमारी जानलेवा साबित हो सकती है यदि समय रहते इसका उचित उपचार नहीं किया गया। जब मानव शरीर में कोशिकाओं की वृद्धि अनावश्यक हो अर्थात जिनकी शरीर में कोई आवश्यकता न हो तो ऐसी अवस्था को ही कैंसर के नाम से जाना जाता है। कोशिकाओं की अनावश्यक वृद्धि मानव शरीर में कैंसर या ट्यूमर का निर्माण करती है।ब्रेन ट्यूमर 3 से 12 या 15 वर्ष की आयु में अथवा 50 वर्ष की आयु के बाद होता है। यह रोग विशेष प्रकार के विषाणु के संक्रमण से या प्रदूषित पदार्थों के स्वसन क्रिया के साथ प्रवेश करने के कारण भी हो सकता है।

विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस मनाने की शुरुआत कब हुई?

विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस सर्वप्रथम ब्रेन ट्यूमर के बारे में लोगों के बीच शिक्षा और जन जागरूकता प्रसारित करने वाले एक गैर लाभकारी संगठन जर्मन ब्रेन ट्यूमर एसोसिएशन(डॉयचे हिरन टयूमरहिल्फ) द्वारा 2000 में मनाया गया था। जर्मनी में घातक ब्रेन ट्यूमर सामान्यत: पाया जाता है। केवल जर्मनी में ही ब्रेन ट्यूमर से 8000 से अधिक लोग पीड़ित हैं। अधिकांश ट्यूमर से पीड़ित होने वाले रोगियों की संख्या ट्यूमर की तुलना में ब्रेन मेटास्टैसिस के कारण अधिक होती है।

ब्रेन ट्यूमर के लक्षण (Symptoms of Brain Tumor)

ब्रेन ट्यूमर में सिरदर्द एक प्रमुख लक्षण है। प्रातः काल में यह दर्द बहुत तीव्र होता है लेकिन दिन चढ़ने के साथ सिर दर्द कम होना शुरू हो जाता है। सिर के सामने अथवा पीछे की ओर अधिक दर्द होता है। शुरू शुरू में तो दर्द निवारक दवाओं से सिर दर्द में आराम मिल जाता है लेकिन समय बढ़ने के साथ इन दवाओं का असर भी समाप्त हो जाता है और दर्द की तीव्रता बढ़ने लगती है।
ब्रेन ट्यूमर होने पर मस्तिष्क या इससे संबंधित क्रियाओं में अचानक परिवर्तन आ जाता है। यह परिवर्तन मस्तिष्क के अंदर कोशिकाओं में अनावश्यक वृद्धि के कारण होता है। कोशिकाओं में अनावश्यक वृद्धि घाव या गांठ बनाती है। और जैसे-जैसे गांठ के बढ़ने की गति तीव्र होती है वैसे- वैसे सिर के साथ गर्दन में दर्द होने लगता है। जिसकी वजह से रोगी बेहोश भी हो सकता है।
ब्रेन ट्यूमर से दर्द के साथ-साथ अन्य लक्षण भी दिखाई पड़ने लगते हैं जैसे- किसी विषय पर बार-बार सोचने के लिए बल का प्रयोग करना, शरीर में चैतन्यता की असमानता, चलने, स्पर्श, सूंघने आदि की क्रियाओं में परिवर्तन के लक्षण, दृष्टि में बदलाव आदि।

ब्रेन ट्यूमर का निदान(Treatment of Brain Tumor)

किसी भी प्रकार के सिर दर्द के प्रति सचेत रहना चाहिए। उपरोक्त में से कोई भी लक्षण प्रतीत हो तो शीघ्र ही परीक्षण करवाकर रोग की पुष्टि कर लेनी चाहिए। किसी भी रोग का उपचार शुरुआती अवस्था सरलता से किया जा सकता है।
बीमारी के लक्षण और परीक्षण से ही कुछ हद तक इस बीमारी का इलाज हो जाता है। आज इस रोग का उपचार रोग की प्रारंभिक अवस्था में करना आसान हो गया है, और इसके लिए परीक्षण के बाद विशेष प्रकार की जांच जैसे- कैट स्कैन, सिर का एक्सरे, रीढ़ की हड्डी से पानी की जांच आदि से रोग की पुष्टि की जाती है।
रेडियोथैरेपी, कीमोथेरेपी, शल्य चिकित्सा तथा दवाई इस रोग के इलाज में प्रभावी साबित हुए हैं।

ब्रेन ट्यूमर से जुड़े कुछ प्रमुख तथ्य

  • ब्रेन ट्यूमर होने के सही कारण स्पष्ट नहीं है।
  • ब्रेन ट्यूमर किसी भी उम्र में हो सकता है।
  • वयस्कों में होने वाले ब्रेन ट्यूमर का सबसे सामान्य प्रकार एस्ट्रोसाइटोमा मस्तिष्कावर्णार्बुद और ओलिगोडेंड्रोग्लियोमा है।
  • बच्चों में पाए जाने वाले ब्रेन ट्यूमर का सबसे सामान्य प्रकार है मेडुलोब्लास्टोमा, ग्रेड 1 या ग्रेड 2 एस्ट्रोसाइटोमा,एपिंडाईमोमा और ब्रेनस्टेम ग्लियोमा।
    ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित होने के कारणों में पारिवारिक इतिहास तथा बार-बार एक्सएक्सरे कराना भी शामिल है। चिकित्सकीय इतिहास, शारीरिक परीक्षण तथा ब्रेन एवं तंत्रिका तंत्र के विभिन्न महत्वपूर्ण पारीक्षणों द्वारा ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित होने का निर्धारण चिकित्सकों द्वारा किया जाता है।

Read more health related blogs in hindi

https://janpanchayat.com/category/health-style/