संदेशखाली की पीड़िता Rekha Patra को भाजपा ने बशीरहाट से क्यों बनाया उम्मीदवार ?: Lok Sabha Election 2024

संदेशखाली की पीड़िता रेखा पात्रा को भाजपा ने बशीरहाट से क्यों बनाया उम्मीदवार ?: Lok Sabha Election 2024

Lok Sabha Election 2024: बीजेपी ने होली से ठीक पहले बंगाल के लिए 19 उम्मीदवारों की सूची जारी की थी। भाजपा ने बशीरहाट से रेखा पात्रा को उम्मीदवार बनाया है,जो संदेश खाली की रहने वाली हैं। संदेशखाली बशीरहाट संसदीय क्षेत्र का ही हिस्सा है। रेखा को उम्मीदवार बनाए जाने से संदेशखाली में खुशी का माहौल है। खासकर महिलाओं में भरोसा बढ़ा है।

भाजपा प्रत्याशी बनाए जाने से रेखा पात्रा केंद्रीय नेतृत्व की आभारी है। उन्होंने कहा कि वह संदेशखली की पीड़ित मां- बहनों के साथ खड़ी होना चाहती हैं, उन्हें आगे रखना चाहती हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया है।

रेखा पात्रा को बशीरहाट संसदीय क्षेत्र से उम्मीदवार बनाए जाने पर बीजेपी आईटी सेल के के अमित मालवीय ने पोस्ट पर कहा था कि “रेखा पात्रा संदेशखाली की पीड़ित महिलाओं में से एक हैं,उन्हें भी शाहजहां शेख के हाथों प्रताड़ित होना पड़ा। बीजेपी संदेशखली की महिलाओं के साथ खड़ी है”

कौन है रेखा पात्रा ?

रेखा पात्रा ने संदेशखाली की महिलाओं की आवाज को बुलंद किया था। महिलाओं की आवाज तृणमूल कांग्रेस के दबंग नेता शाहजहां शेख और उनके करीबियों के अत्याचार की वजह से दबाई जा रही थी। शाहजहां शेख मछली पालन के लिए संदेशखाली के लोगों की जमीने हड़प रहा था और यहां की महिलाओं के साथ दुष्कर्म कर रहा था।

आज शाहजहां शेख सीबीआई की हिरासत में है लेकिन उसने लंबे समय तक यहां की महिलाओं का दमन किया। यहां की महिलाओं ने हिम्मत नहीं हारी और शाहजहां से के खिलाफ आवाज उठाई। रेखा पात्रा इन महिलाओं की हिम्मत की पहचान बनी और संदेशखाली आंदोलन का प्रमुख चेहरा थी।

रेखा पात्रा ने शाहजहां पर अपनी जमीन कब्जाने और यौन शोषण का आरोप लगाया था। उनकी शिकायत पर ही संदेशखाली के आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। अब तक इस मामले में 14 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है और शेख को भी तृणमूल कांग्रेस से निष्कासित कर दिया गया है।

Read More: https://janpanchayat.com/mukhtar-ansari-how-the-grandson-of-a-freedom-fighter-became-the-don-of-the-east/

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेखा पात्रा के नाम पर लगाई मुहर

हाल ही में प्रधानमंत्री जब बंगाल दौरे पर थे तब उन्होंने संदेशखाली की पीड़ितों से मुलाकात की थी। बारासात में जनसभा के बाद पीएम मोदी ने संदेशखाली की पांच महिलाओं से मुलाकात की थी उनमें रेखा भी शामिल थी। रेखा और अन्य महिलाओं ने संदेशखाली में महिलाओं की दुर्दशा के बारे में प्रधानमंत्री को बताया था।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार संदेशखाली के लोगों ने भी नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी से रेखा पत्र को उम्मीदवार बनाने का अनुरोध किया था जिसे उन्होंने केंद्रीय नेतृत्व तक पहुंचाया था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार केंद्रीय नेतृत्व को भी रेखा पात्रा की उम्मीदवारी में दम दिखा और प्रधानमंत्री ने रेखा के नाम पर मोहर लगा दी।

बीजेपी के इस मास्टरस्ट्रोक से ममता बनर्जी की बढ़ी मुश्किलें

बीजेपी ने किसी राजनीतिक चेहरे के बजाय संदेशखाली विरोध प्रदर्शन में शामिल महिलाओं को यहां से उम्मीदवार बनाने का फैसला करके बंगाल में राजनीतिक हलचल तेज कर दी है। बीजेपी बंगाल के संदेशखाली में हुई महिला उत्पीड़न को सबसे ऊपर रख रही है।

बीजेपी रेखा को सामने रखकर राज्य भर में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के आरोपों को तेज करना चाहती है। पार्टी नेताओं का मानना है कि इसका फायदा केवल बशीरहाट में ही नहीं पूरे राज्य में होगा।

बीजेपी बंगाल के लोगों को रेखा के जरिए संदेश देना चाहती है कि वह महिलाओं के साथ खड़ी है। बशीरहाट में यह बीजेपी का मास्टरस्ट्रोक माना जा रहा है। समझा ये जा रहा है कि संदेशखाली आंदोलन का प्रमुख चेहरा बनी रेखा पात्रा के यहां से उम्मीदवार बनने के बाद ममता बनर्जी के लिए बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है।