World Osteoporosis Day 2023: हड्डियों को खोखला करने वाली बीमारी ओस्टियोपोरोस से खुद को बचाने के लिए दूर रहे इन चीजों से

ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis)एक ऐसी बीमारी है जिसका खतरा तब पैदा होता है जब हड्डियों के क्षति की गति हड्डियों के विकास की गति से ज्यादा होती है। इसमें हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और हड्डियों के जोड़ों में फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है। इसे खोखली हड्डियों की बीमारी भी कहा जाता है।

विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस(World Osteoporosis Day) प्रत्येक वर्ष 20 अक्टूबर को ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम, निदान एवं उपचार के लिए वैश्विक जागरूकता पैदा करने के लिए मनाया जाता है। यह दिन लोगों को अपनी मांसपेशी स्वास्थ्य एवं अपनी हड्डियों को सुरक्षित करने के लिए कार्यवाही तथा चिकित्सकों को उनके समुदायों की हड्डियों के स्वास्थ्य को सुरक्षित करने के लिए प्रेरित करने के लिए मनाया जाता है।

world osteoporosis day in hindi_Janpanchayat Health Blogs_Health news In Hindi

World Osteoporosis Day 2023: ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis)एक ऐसी बीमारी है जिसका खतरा तब पैदा होता है जब हड्डियों के क्षति की गति हड्डियों के विकास की गति से ज्यादा होती है। इसमें हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और हड्डियों के जोड़ों में फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है। इसे खोखली हड्डियों की बीमारी भी कहा जाता है।

विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस(World Osteoporosis Day) प्रत्येक वर्ष 20 अक्टूबर को ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम, निदान एवं उपचार के लिए वैश्विक जागरूकता पैदा करने के लिए मनाया जाता है। यह दिन लोगों को अपनी मांसपेशी स्वास्थ्य एवं अपनी हड्डियों को सुरक्षित करने के लिए कार्यवाही तथा चिकित्सकों को उनके समुदायों की हड्डियों के स्वास्थ्य को सुरक्षित करने के लिए प्रेरित करने के लिए मनाया जाता है।

विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस का इतिहास (History of World Osteoporosis Day)

विश्व राष्ट्रीय पुरुष दिवस की शुरुआत नेशनल ऑस्टियोपोरोसिस सोसाइटी इंग्लैंड और यूरोपीय कमीशन के सहयोग से वर्ष 1996 में हुई थी। तब से प्रत्येक वर्ष 20 अक्टूबर को विश्व ओस्टियोपोरोसिस दिवस पूरे विश्व में मनाया जाता है।

क्या है ऑस्टियोपोरोसिस (What is Osteoporosis) ?

ऑस्टियोपोरोसिस(Osteoporosis ) तब होता है जब हड्डियां कमजोर हो जाती है। ऑस्टियोपोरोसिस होने पर बोन मास डेंसिटी (BMD) काम हो जाती है, जिससे हड्डियों में फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है। बीएमडी लॉस का पहला स्तर ओस्टियोपेनिया(Osteopenia)कहलाता है। सही समय पर ओस्टियोपेनिया का इलाज न होने पर ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है।

ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा किसको होता है सबसे अधिक ?

वैसे तो ओस्टियोपोरोसिस 50 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में अधिक होता है, लेकिन अब यह पुरुषों के साथ-साथ बच्चों में भी होने लगा है। महिलाओं में एस्ट्रोजन बोन मास डेंसिटी (BMD) लेवल को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, लेकिन रजोनिवृत्ति (Post Menopausal) के बाद महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन लेवल कम होने लगता है, जिससे बोन मास डेंसिटी (BMD) में तेजी से गिरावट आती है। अतः महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा सबसे अधिक होता है

ऑस्टियोपोरोसिस के क्या है कारण(What are the causes of Osteoporosis) ?

हड्डी रोग विशेषज्ञ के अनुसार हड्डियों के ढांचे में दो हिस्से होते हैं एक प्रोटीन का जैविक हिस्सा और दूसरा अजैविक हिस्सा मिनरल्स का होता है। जैविक हिस्सा एक जटिल जाल की तरह होता है। उसके ऊपर मिनरल्स जमा होते हैं। यह दोनों हड्डी की संरचना करते हैं। प्रोटीन का जैविक हिस्सा बढ़ती उम्र और खराब जीवन शैली की वजह से धीरे-धीरे कमजोर होने लगता है। जिससे उस पर जमी मिनरल्स की मात्रा कम हो जाती है और हड्डियां कमजोर हो जाती हैं।

हड्डियों के कमजोर होने के प्रमुख कारण निम्न है (The main reasons for weakening of bones are as follows)

  • कैल्शियम की कमी
  • विटामिन डी की कमी
  • वजन कम होना
  • अधिक शराब का सेवन
  • खराब जीवन शैली
  • असंतुलित आहार
  • तनाव
  • धूम्रपान करना
  • रूमेटाइड अर्थराइटिस
  • लंबे समय तक सेवन की जाने वाली दवाएं जैसे स्टेरॉयड
  • निष्क्रिय जीवन शैली इत्यादि

ऑस्टियोपोरोसिस के लक्षण (Symptoms of Osteoporosis)

ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis)को एक तरह से साइलेंट किलर भी कहा जा सकता है, क्योंकि शुरुआत में हड्डियों (Bones) के नुकसान के कोई खास लक्षण नजर नहीं आते और इस बीमारी पर तब तक किसी का ध्यान नहीं जाता जब तक की कोई व्यक्ति फैक्चर से पीड़ित ना हो जाए। ऑस्टियोपोरोसिस होने पर निम्न लक्षण दिखाई पड़ते हैं-

  • पीठ में दर्द
  • समय के साथ लंबाई में कमी
  • शरीर का झुकना या झुकाव
  • कूल्हे या रीढ़ की हड्डी का फ्रैक्चर
  • हाथ, पांव व कमर में दर्द
  • शरीर में लगातार थकावट
  • हल्की चोट पर हड्डियों का टूटना इत्यादि

ऑस्टियोपोरोसिस का निदान (Diagnosis of Osteoporosis)

Osteoporosis का निदान DEXA स्कैन के जरिए किया जाता है इसे सबसे बेहतरीन टेस्ट माना जाता है। एक बार DEXA टेस्ट में Osteoporosis होने का पता लगता है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

ऑस्टियोपोरोसिस से बचाव के क्या है उपाय (What is Prevention of Osteoporosis) ?

कुछ सावधानियां बरत कर Osteoporosis से बचा जा सकता है जैसे-

  • कैल्शियम और विटामिन डी युक्त खाद्य पदार्थ जैसे- दूध, दही,हरी पत्तेदार सब्जियों से भरपूर संतुलित आहार का सेवन करें।
  • धूम्रपान और अत्यधिक शराब का सेवन करने से बचें।
  • अपने शरीर के वजन कैल्शियम एवं विटामिन डी के स्तर के नियमित जांच कराएं।
  • तनाव से दूर रहे
  • प्रतिदिन व्यायाम करें
  • विटामिन डी के लिए धूप सेंके
  • कैल्शियम का अधिक सेवन करें
  • मोटापा कम करें।

विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस 2023 की थीम(Theme of World Osteoporosis Day)

विश्व ओस्टियोपोरोसिस दिवस, 2023 की थीम है-

” बेहतर हड्डियों का निर्माण।”
(Build Better Bone)