जी–7 देशों ने किया भारत की जी–20 अध्यक्षता का समर्थन (G-7 countries support India’s G-20 presidency)

Janpanchayat Hindi NEWS: भारत द्वारा जी-20 देशों की अध्यक्षता का जी–7 के सदस्य देशों ने समर्थन किया है। जी–7 के सदस्यों ने कहा कि वे एक शांतिपूर्ण, समृद्ध और सतत भविष्य के पुनर्निर्माण के लिए मजबूती से एकजुट होकर खड़े हैं। उन्होंने कहा कि वे सभी बेहतर एवं सतत भविष्य का समर्थन करते हैं।
एक संयुक्त बयान में जी–7 के नेताओं ने कहा कि जर्मनी की अध्यक्षता में जी-7 देशों ने अपने अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ मिलकर अपने समय की प्रणालीगत चुनौतियों और तात्कालिक संकट से मिलकर निपटने का संकल्प दिखाया है।

UNSC Updates _Janpanchayat Hindi News

भारत द्वारा जी-20 देशों की अध्यक्षता का जी–7 के सदस्य देशों ने समर्थन किया है। जी–7 के सदस्यों ने कहा कि वे एक शांतिपूर्ण, समृद्ध और सतत भविष्य के पुनर्निर्माण के लिए मजबूती से एकजुट होकर खड़े हैं। उन्होंने कहा कि वे सभी बेहतर एवं सतत भविष्य का समर्थन करते हैं।
एक संयुक्त बयान में जी–7 के नेताओं ने कहा कि जर्मनी की अध्यक्षता में जी-7 देशों ने अपने अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ मिलकर अपने समय की प्रणालीगत चुनौतियों और तात्कालिक संकट से मिलकर निपटने का संकल्प दिखाया है।

1 दिसंबर को भारत में संभाली थी जी-20 की अध्यक्षता

जी-20 की अध्यक्षता भारत ने 1 दिसंबर को संभाली थी। अगले वर्ष 9 एवं 10 सितंबर को दिल्ली में राष्ट्राध्यक्ष या शासनाध्यक्ष स्तर पर जी-20 नेताओं का अगला सम्मेलन होगा।
जी-20 की अध्यक्षता संभालने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि भारत एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य के विषय से प्रेरित होकर एकता को बढ़ावा देने के लिए काम करेगा। महामारी, जलवायु परिवर्तन और आतंक को सबसे बड़ी चुनौतियों के तौर पर सूचीबद्ध करेगा। भारत की जी-20 प्राथमिकताओं को न केवल जी-20 भागीदारों बल्कि दुनिया के उन सभी देशों के परामर्श से आकार दिया जाएगा जिनकी आवाज अक्सर अनसुनी कर दी जाती है।

जी-20 देश के सदस्य

जी-20 देश की सदस्य हैं– अर्जेंटीना, ब्राजील, आस्ट्रेलिया, चीन, कनाडा, फ्रांस, भारत, इटली, जर्मनी, इंडोनेशिया, जापान, कोरिया गणराज्य, मेक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्कीए, ब्रिटेन, अमेरिका और यूरोपीय संघ जी-20 के सदस्य हैं।

जी–7 देश के सदस्य

कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, ब्रिटेन और अमेरिका जी–7 के सदस्य हैं।