क्यों भावुक हुए MP CM Shivraj Singh Chouhan, शिवराज सिंह चौहान का है यह विदाई भाषण?

0

क्यों भावुक हुए CM Shivraj Singh Chouhan ||
Shivraj Singh Chouhan Emotional today |शिवराज सिंह चौहान ने गृह जिले सीहोर में कहा कि “ऐसा भैया मिलेगा नहीं तुम्हें, जब चला जाऊंगा, तब याद आऊंगा, मैं सरकार नहीं परिवार चलता हूं।”
2 दिन पूर्व वही शिवराज सिंह चौहान ने कहा था “मैं वजन बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री नहीं बना हूं जनता का जीवन बदलने के लिए बना हूं। शिवराज सिंह के इन बयानों पर सवाल उठने लगे हैं, कि क्या उन्हें बता दिया गया है कि उनकी विदाई तय है? क्या उन्होंने जाने का मन बना लिया है?

Shivraj Singh Chouhan emotional in yuva prawasi bhartiya diwas 2033__News Headliens Today Hindi

क्या Shivraj Singh Chouhan का है यह विदाई भाषण?क्यों छलका शिवराज सिंह चौहान का दर्द?

“मेरी बहना,ऐसा भैया मिलेगा नहीं, मैं चला जाऊंगा, तब याद आऊंगा।”

शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने गृह जिले सीहोर में कहा कि “ऐसा भैया मिलेगा नहीं तुम्हें, जब चला जाऊंगा, तब याद आऊंगा, मैं सरकार नहीं परिवार चलता हूं।”
2 दिन पूर्व वही शिवराज सिंह चौहान ने कहा था “मैं वजन बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री नहीं बना हूं जनता का जीवन बदलने के लिए बना हूं। शिवराज सिंह के इन बयानों पर सवाल उठने लगे हैं, कि क्या उन्हें बता दिया गया है कि उनकी विदाई तय है? क्या उन्होंने जाने का मन बना लिया है?

इन सवालों का जवाब तो फिलहाल किसी के पास नहीं है लेकिन मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव में शिवराज सिंह चौहान मुख्य चेहरा होंगे या नहीं यह अभी तक स्पष्ट नहीं है। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव को देखते हुए भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने चुनाव की कमान पूरी तरह से अपने हाथों में ले रखी है। बीजेपी ने तीन केंद्रीय मंत्री और नरेंद्र सिंह तोमर, प्रहलाद पटेल और फगन सिंह कुलस्ते समेत सात सांसदों को टिकट दिए हैं। राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गी को भी चुनाव मैदान में उतार दिया गया है।

मध्य प्रदेश में अभी तक नहीं स्पष्ट मुख्यमंत्री का चेहरा

अब तक न तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने और ना हीं गृह मंत्री अमित शाह ने यह बोला है कि भाजपा चुनाव जीतती है तो शिवराज मुख्यमंत्री बनेंगे। एमपी का चुनाव ना तो शिवराज के चेहरे पर लड़ा जा रहा है और नहीं शिवराज प्रोजेक्ट सीएम है।

क्या कहा Shivraj Singh Chouhan ने ?

शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने 1 अक्टूबर को सीहोर जिले के लाड़कुई में लाडली बहना सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा

“ऐसा भैया मिलेगा नहीं तुम्हें जब जाऊंगा, तब याद आऊंगा।”

उन्होंने कहा कि “मैंने मध्य प्रदेश की राजनीति की परिभाषा बदल दी है। मेरे लिए राजनीति का मतलब परिवार चलाना है। लोगों को तकलीफों से दूर करके उनकी जिंदगी को बेहतर बनाना मेरा उद्देश्य है। हमारा लक्ष्य है प्रत्येक परिवार में एक व्यक्ति के पास रोजगार।”

इस मौके पर शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने अब तक सभी योजनाएं गिनाई। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री लाडली बहना योजना एक तरह की सामाजिक क्रांति है। प्रधानमंत्री आवास योजना में छूटे पात्र लोगों के लिए मुख्यमंत्री लाडली बहना आवास योजना के तहत आवास उपलब्ध कराए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब लाडली बहनों और प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लाभार्थी महिलाओं को 450 रुपए में रसोई गैस दी जाएगी।

क्या इस बार Shivraj Singh Chouhan नहीं बनेंगे मुख्यमंत्री

बीजेपी ने अभी तक अपना पता नहीं खोला है, लेकिन संकेत यही बता रहे हैं कि इस बार भाजपा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह (MP CM Shivraj Singh Chouhan) के नहीं बल्कि प्रधानमंत्री मोदी के चेहरे पर चुनाव लड़ रही है और उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट में सांसदों के नाम आने से भी यह स्पष्ट है कि भाजपा इन्हीं सांसदों में से किसी को मुख्यमंत्री बना सकती है।

मध्य प्रदेश में सांसदों को चुनाव लड़ने का मुख्य कारण वर्ष 2018 में शिवराज सिंह के टिकट वितरण को लेकर असमानता है। वर्ष 2018 में शिवराज सिंह चौहान ने कई विधायकों के टिकट काटे थे और अपने मन मुताबिक टिकट बांटे थे। 2018 में हुई हार का कारण भी टिकट वितरण से उपजे असंतोष को माना गया था। इस बार टिकट वितरण पर पूरी तरह से केंद्रीय हाई कमान की छाप दिख रही है। भाजपा का केंद्रीय हाई कमान शुरू से अपने आश्चर्यचकित करने वाले फैसलों के लिए जाना जाता रहा है। ऐसे में आश्चर्य नहीं होगा यदि शिवराज सिंह चौहान को मुख्यमंत्री पद का दावेदार ना बनाया जाए। अब देखना यहा है कि मध्य प्रदेश चुनाव में मुख्यमंत्री का चेहरा कौन बनता है? क्या शिवराज सिंह की विदाई निश्चित है?

Leave a Reply